पटना। महिला सशक्तिकरण मुहिम को प्रत्येक वर्ष नई दिशा देने के लिए शुरू किए गए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मद्देनजर गुरुवार को बिहार की राजधानी पटना के हवाई अड्डे से लेकर ट्रेन परिचालन तक की कमान महिलाओं को सौंपी गई। संयुक्त राष्ट्र द्वारा वर्ष १९७७ से शुरू किए गए इस दिवस को सफल करने और महिलाओं को सशक्त बनाने के इस अभियान में भागीदार बनते हुए बिहार के फलवारी शरीफ स्टेशन पर महिला सहायक लोको पायलट ने ट्रेनों का परिचालन किया। इसके अलावा स्टेशन सहायक स्टेशन मास्टर, टिकट निरीक्षक (टीटीई) और गैंगमैन की जिम्मेवारी भी महिलाओं ने ही संभाली। वहीं पूर्व मध्य रेलवे के दानापुर रेलमंडल का कहना है कि अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिला रेलकर्मियों को प्रमुखता दी गई। इतना ही नहीं पटना के जयप्रकाश नारायण अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर महिलाओं ने ही एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) और कम्युनिकेशन नेविगेशन सर्विलांस (सीएनएस) से लेकर सुरक्षा और सेवा की कमान संभाली। एटीएस में तैनात महिला कर्मियों ने ही विमानों की सुरक्षित लैंडिंग कराई और उ़डान भरने के लिए निर्देश भी दिए। इसके अलावा बिहार विधानसभा ने भी अनोखी पहल कर महिला सदस्यों को आगे आने के लिए प्रोत्साहित किया। बजट सत्र के प्रश्नकाल के दौरान महिला विधायकों को प्राथमिकता देते हुए सबसे पहले उनके प्रश्नों को ही लिया गया। सभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर शुभकामना देते हुए कहा कि इस बार दिवस का थीम ’’प्रेस फॉर प्रोगरेस’’ है अर्थात प्रगति के लिए प्रोत्साहित किया जाए। इसके मद्देनजर यदि सदन की सहमति हो तो प्रश्न काल में महिला सदस्यों को प्राथमिकता देते हुए उनके प्रश्न पहले लिए जाएं। इसके बाद सत्तापक्ष और विपक्ष की महिला सदस्यों ने दलगत भावना को भूलकर विधायिका में महिलाओं को ३३ प्रतिशत आरक्षण देने की मांग करते हुए सदन के बीच में आकर एक साथ नारेबाजी की। इसके बाद पक्ष-विपक्ष के कई पुरूष सदस्यों ने भी महिला सदस्यों की मांग का समर्थन किया। इसपर सभाध्यक्ष ने कहा कि आसन को खुशी है कि महिलाओं के मामले में सदन एकजुट है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY