बेंगलूरु। अपने हर चुनाव प्रचार अभियान में भाजपा के नेता राज्य में कानून-व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त होने का आरोप लगा रहे हैं। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अपने तीन दिनों के कर्नाटक दौरे पर विभिन्न स्थानों पर यह आरोप दोहराया है। राज्य के गृहमंत्री रामलिंगा रेड्डी ने सोमवार को इस आरोप को खारिज करते हुए कहा कि राज्य में आपराधिक घटनाओं पर पूरा नियंत्रण प्राप्त किया गया है। यहां अपराध की दर में भी काफी गिरावट आई है। सोमवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में रेड्डी ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को इस बारे में पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय से विस्तृत जानकारी हासिल करनी चाहिए्। हाल में राष्ट्रीय अपराध शोध ब्यूरो ने अपने आंक़डों में दर्शाया है कि कर्नाटक में अपराध की दर सिर्फ ५ प्रतिशत है। भाजपा शासित राज्यों उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और बिहार की अपेक्षा कर्नाटक में अपराध की दर बेहद कम है। उन्होंने दावा किया कि हाल के वर्षों में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान राज्य में अपराध की दर में तेजी से गिरावट हुई है। वर्ष २००८-१३ के दौरान जिस समय भाजपा यहां की सत्ता में हुआ करती थी, उस दौरान राज्य में अपराध की दर ७ प्रतिशत थी। कांग्रेस की सरकार ने अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर यह दर ५ प्रतिशत पर ला दिया। रेड्डी ने खुफिया एजेंसियों को १०० करो़ड रुपए जारी किए जाने को भी सही ठहराते हुए कहा कि यह एक सामान्य प्रक्रिया है। सभी राज्यों की सरकारें विधानसभा चुनाव के वर्ष में खुफिया एजेंसियों के लिए अतिरिक्त वित्तीय फंड आवंटित करती रही हैं। यहां तक कि केंद्र सरकार भी ऐसा ही करती है।

LEAVE A REPLY