बेंगलूरु। भारत की विशालतम वाहन निर्माता कंपनियों में से एक महिंद्रा समूह की कंपनी महिंद्रा इले्ट्रिरक और भागीरथी समूह ने शनिवार को शहर की स़डकों पर बैटरी चालित कारों को लांच किया है। इन दोनों कंपनियों ने प्रदूषण घटाने और बैटरी से चलने वाली कारों के बारे में आम जनता को जागरूक करने के लिए यह पहल की है। इन्होंने शुरुआती तौर पर ५० ई-वेरिटो कारें लांच की हैं, जो किफायती किरायों पर शहरवासियों को यातायात सुविधाएं देंगी। दिन के २ से ५ बजे तक इन कारों की मुफ्त सवारी की जा सकती है। आज लांच की गई ५० कारों में से ९ कारें महिला ड्राइवरों को सौंपी गई हैं, जो पूरे शहर में किराए के आधार पर इन्हें चलाएंगी। इन कारों को लांच करते हुए मुख्यमंत्री सिद्दरामैया ने कहा कि राज्य सरकार बैटरी से चलने वाले वाहनों की लोकप्रियता ब़ढाने के लिए इन्हें विशेष प्रोत्साहन देगी। सार्वजनिक परिवहन के लिए इन वाहनों के प्रयोग को भी ब़ढावा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बेंगलूरु महानगर परिवहन निगम भी बैटरी से चलने वाली बसों का प्रयोग शुरू करेगा। सिद्दरामैया ने कहा कि केंद्र सरकार के साथ ही राज्य सरकार भी बैटरी से चलने वाले वाहनों को लोकप्रिय बनाने के कदम उठाने में दिलचस्पी जता चुकी है। इस प्रकार के वाहन बनाने वाली कंपनियों और इनकी सेवा देने वालों को करों में कई प्रकार की रियायतें दी जा रही हैं। वहीं, महिंद्रा इले्ट्रिरक ने इन कारों की लांचिंग के मौके पर अगले पांच वर्षों के दौरान राज्य में ४०० करो़ड रुपए निवेश करने की घोषणा की है। इस निवेश के जरिए कंपनी अपनी क्षमता ब़ढाने, ई-वाहनों की तकनीक में नवाचार को ब़ढावा देने और इस क्षेत्र में दक्ष मानव संसाधन ब़ढाने का प्रयास करेगी। वहीं, भागीरथी समूह ने जल्दी ही अपने ई-वाहन ब्रांड राइड्स को बाजार में पेश करने की घोषणा की। इसकी डिजाइनिंग के समय कंपनी ने इस बात पर खास ध्यान दिया कि इससे कार्बन उत्सर्जन न्यूनतम हो और हानिकारक गैसों का उत्सर्जन बिल्कुल शून्य हो। भागीरथी समूह अपने औद्योगिक उपभोक्ताओं को जल्दी ही १ हजार ई-वाहनों की आपूर्ति करने की घोषणा की है। उल्लेखनीय है कि बेंगलूरु की स़डकों पर महिंद्रा इले्ट्रिरक और भागीरथी समूह ने ऐसे समय में ई-कारें लांच की हैं, जिस समय कर्नाटक सरकार ने अपनी ई-वाहन और ऊर्जा भंडारण नीति घोषित की है। उम्मीद जताई जा रही है कि इन नीतियों से शहर में ई-वाहनों के यातायात के लिए अनुकूल माहौल बनेगा और साथ ही इन वाहनों के लिए जरूरी बुनियादी सुविधाएं भी विकसित की जा सकेंगी। इन कारों की लांचिंग के मौके पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए महिंद्रा इले्ट्रिरक के सीईओ महेश बाबू ने कर्नाटक को कंपनी का घर बताया। बेंगलूरु में कंपनी के तीन विनिर्माण संयंत्र मौजूद हैं्। वहीं, भागीरथी समूह के संस्थापक अध्यक्ष महेश हरिहरन ने कहा कि उनकी कंपनी पूरे देश में ई-वाहनों के बे़डों के लिए जरूरी ढांचागत सुविधाएं उपलब्ध करवाएगी। इस पर ध्यान केंद्रित करते हुए कंपनी ने एक विस्तृत योजना भी तैयार कर ली है। उन्होंने कहा कि कंपनी ने इस योजना के क्रियान्वयन के लिए बेंगलूरु को अपना आधार बनाने का निर्णय लिया है।

LEAVE A REPLY