हैदराबाद। बाल विवाह से बचाई गई हैदराबाद की १६ वर्षीय ल़डकी बी अनुषा क्रिकेट के मैदान में धूम मचा रही है। स्थानीय गैर सरकारी संस्था (एनजीओ) की मदद से रचकोंडा पुलिस ने उन्हें शहर के सरूरनगर इलाके से बचाया। पुलिस ने बताया कि पिछले साल अप्रैल में अनुषा का परिवार उनकी शादी २६ वर्षीय रिश्तेदार से करने जा रहा था लेकिन एनजीओ बालाला हाक्कुला संघम की मदद से हमने उन्हें बचाया। रचकोंडा के पुलिस आयुक्त महेश एम भागवत ने कहा कि कक्षा दस में प़ढने वाली इस छात्रा ने खेल में रुचि दिखाई और हाल ही में मध्य प्रदेश में आयोजित इंटर-स्कूल अंडर-१९ क्रिकेट मैच में उन्होंने हरफनमौला खेल से सबका दिल जीता। वह इस बात की सटीक उदाहरण बन गई है कि सही प्रोत्साहन और मार्गदर्शन मिलने पर कुछ भी मुश्किल नहीं। भागवत ने कहा, राष्ट्रीय स्तर के क्रिकेट टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करने के बाद अनुषा दो दिनों के बाद यहां के एलबी स्टेडियम में शुरू हो रहे अंडर-१९ रग्बी टूर्नामेंट में भाग लेंगी। अनुषा के असाधारण प्रदर्शन पर बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि भविष्य में उसे सभी तरह की मदद मुहैया कराई जाएगी। पुलिस आयुक्त ने कहा, पुलिस विभाग अनुषा का ध्यान (केयर टेकर) रखेगी। जब तक वह अपनी शिक्षा को पूरा नहीं कर लेती, तब तक हम उसे वित्तीय सहायता प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि परिवार को ल़डकियों और महिलाओं को आगे ब़ढने में मदद करनी चहिए और उनसे भेदभाव बंद किया जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY