sheikh hasina

ढाका। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने ढाका के एक प्रसिद्ध मंदिर को डेढ़ बीघा जमीन देने की घोषणा की है। इस फैसले के बाद बांग्लादेश और भारत में उनके फैसले को सराहा जा रहा है। विभिन्न रिपोर्टों में बताया गया है कि इस फैसले के जरिए शेख हसीना की सरकार यह संदेश देना चाहती है कि बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदुओं को भी पूरी स्वतंत्रता है और सरकार उनके हितों का ध्यान रखती है।

शेख हसीना ने ढाका स्थित मां दुर्गा के प्रसिद्ध ढाकेश्वरी मंदिर का दौरा किया। उन्होंने घोषणा की है कि मंदिर को डेढ़ बीघा जमीन दी जाएगी, जिसकी कीमत करीब 50 करोड़ टका है। गौरतलब है कि ढाकेश्वरी मंदिर बांग्लादेश में हिंदुओं का प्रसिद्ध तीर्थस्थान है। विभाजन से पहले पूरे भारत से हिंदू यहां आकर देवी के दर्शन करते थे। बांग्लादेश में रहने वाले हिंदुओं के लिए यह महत्वपूर्ण तीर्थस्थल है। इसके लिए वे सरकार से कई बार मांग कर चुके थे कि और जमीन दी जाए। अब शेख हसीना ने जमीन देने की घोषणा कर दी।

शेख हसीना की पार्टी अवामी लीग सत्ता में है। आमतौर पर इसका रुख हिंदुओं के प्रति अच्छा रहा है और चुनावों में हिंदू बाहुल्य इलाकों से इसे काफी वोट भी मिलते हैं। बांग्लादेश में इस साल के आखिर में संसदीय चुनाव होंगे। बांग्लादेश सरकार ने एक बयान में कहा है कि यहां हजारों की तादाद में हिंदुओं ने दुर्गा पूजा उत्सव में भाग लिया और सभी अल्पसंख्यक सुरक्षित महसूस करते हैं। सरकार ने कहा है कि उसके देश में सभी बांग्लादेशी सुरक्षित महसूस करते हैं।

Dhakeshwari Devi Dhaka
Dhakeshwari Devi Dhaka

युद्ध से भी रहा मंदिर का संबंध
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, ढाकेश्वरी मंदिर के स्थान पर देवी सती के आभूषण गिरे थे। वर्ष 1947 में विभाजन के बाद ढाकेश्वरी मंदिर पूर्वी पाकिस्तान में चला गया। जब 1971 में यहां आज़ादी की जंग छिड़ी तो पाकिस्तानी फौज ने ढाकेश्वरी मंदिर को अपनी गतिविधियों के संचालन का अड्डा बनाया था। यहां फौज का शस्त्रागार था।

उस समय पाकिस्तानी जनरलों ने हिंदुओं की आस्था का मजाक उड़ाने के लिए मंदिर की पवित्रता का उल्लंघन किया। उनके फौजी जूते पहनकर अंदर जाते। यह भी कहा जाता है कि इस स्थान पर बैठकर पाकिस्तानी फौजी शराब पीते, मांसाहार करते और ढाकेश्वरी देवी का मजाक उड़ाते। बाद में पाकिस्तान की बड़ी शिकस्त हुई और उसकी फौज को भारत के सामने आत्मसमर्पण करना पड़ा। जून 2015 में जब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बांग्लादेश गए तो उन्होंने भी मां ढाकेश्वरी के दर्शन कर पूजा-अर्चना की थी।

ये भी पढ़िए:
– देर रात गरबा में थे मग्न, अचानक आया मगरमच्छ तो मच गई भगदड़
– पाक का फैसला: छह साल की जैनब को मिला इनसाफ, दुष्कर्म और हत्या के दोषी को नौ माह में दे दी फांसी
– ठांय-ठांय बोलकर बदमाशों को डराने वाले पुलिसकर्मी की हो रही तारीफ, मिलेगा पुरस्कार
– नदी में सिक्के ढूंढ़ रहे लड़कों को मिला संदूक, खोलकर देखा तो उड़ गए होश

LEAVE A REPLY