रामल्ला। फलस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने भारत एवं फलस्तीन के बीच संबंधों को ब़ढावा देने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के योगदान को देखते हुए शनिवार को उन्हें ग्रैंड कॉलर ऑफ द स्टेट ऑफ फलस्तीन सम्मान से सम्मानित किया। दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय बैठक के समापन के बाद फलस्तीन के राष्ट्रपति अब्बास ने मोदी को ग्रैंड कॉलर ऑफ द स्टेट ऑफ फलस्तीन से सम्मानित किया। मोदी फलस्तीन की आधिकारिक यात्रा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं। ग्रैंड कॉलर विदेशी गणमान्यों (शाह, राष्ट्राध्यक्षों/शासनाध्यक्षों एवं समान पद के व्यक्तियों) को दिया जाने वाला फलस्तीन का सर्वोच्च सम्मान है। इससे पहले यह सम्मान सऊदी अरब के शाह सलमान, बहरीन के शाह हमाद, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग एवं अन्य को दिया जा चुका है। र्ड्डैंध्डत्रर्‍्यद्मद्भह्र ·र्ष्ठैं ्यब्त्रह्र ·र्ष्ठैं ्यध्ॅ द्नय्द्यत्र झ्श्न्यत्रद्धह दृ द्बह्ख्रर्‍रामल्ला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फलस्तीनी राष्ट्रपति मोहम्मद अब्बास को वहां के लोगों के हितों के लिए भारत की प्रतिबद्धता के प्रति आश्वस्त किया और उम्मीद जताई कि फलस्तीन शांतिपूर्ण तरीके से जल्द ही एक स्वतंत्र और संप्रभु राष्ट्र बनेगा। संयुक्त अरब अमरीरात, ओमान और फलस्तीन की चार दिन की यात्रा के दौरान यहां पहुंचे मोदी ने अब्बास के साथ द्विपक्षीय समझौतों पर हस्ताक्षर करने के बाद कहा कि फलस्तीन की खुशहाली और शांति के लिए बातचीत का रास्ता ही एक मात्र हल है। उन्होंने कहा कि वार्ता के जरिये यहां हिंसा खत्म होनी चाहिए तथा शांति का मार्ग निकलना चाहिए।

LEAVE A REPLY