iran oil industry
iran oil industry

वॉशिंगटन। ईरान पर सख्त रुख और प्रतिबंधों की घोषणा के बावजूद अमेरिका ने स्पष्ट किया है कि भारत सहित आठ देशों को उससे तेल आयात की छूट रहेगी। सोमवार को अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने यह जानकारी दी। इसके मुताबिक, भारत, चीन, ग्रीस, इटली, ताइवान, जापान, तुर्की और दक्षिण कोरिया को ईरान से तेल खरीदने की छूट रहेगी।

पॉम्पियो ने बताया कि अमेरिका ने विशिष्ट परिस्थितियों की वजह से कुछ हद तक इन देशों को अस्थायी आवंटन जारी करने का फैसला लिया है। इसका मतलब है कि यह छूट स्थायी नहीं होगी। पॉम्पियो ने अपने देश द्वारा ईरान पर लगाए गए प्रतिबंधों के बारे में बताया कि ईरान से तेल निर्यात में करीब 10 लाख बैरल हर रोज की कमी आई है। उनके मुताबिक, 20 देश पहले ही ईरान से तेल खरीदने में पीछे हट चुके हैं।

ईरान से लगातार बिगड़ रहे रिश्तों के बाद अमेरिका का रुख सख्त होता जा रहा है। उसने ईरान पर दबाव डालने के लिए उस पर प्रतिबंधों की घोषणा की। इससे घबराए कई देशों और दिग्गज कंपनियों ने ईरान से लेनदेन बंद कर दिया है। ट्रंप का रुख देख कई कंपनियां पहले ही ईरान से अपने कारोबारी रिश्ते खत्म कर चुकी हैं। बात जब ईरान से तेल खरीदने की आई तो अमेरिका ने इन आठ देशों को इसमें छूट देने का फैसला किया।

अमेरिका ने सोमवार से ही ईरान के खिलाफ कठोर प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया था। ये प्रतिबंध बैंकिंग, तेल और पोत-परिवहन पर सख्ती से लागू होंगे, जिसका असर ईरान की अर्थव्यवस्था पर पड़ना तय माना जा रहा है। इससे पहले यह चर्चा थी कि अमेरिका भारत और चीन पर भी प्रतिबंधों की घोषणा कर सकता है, लेकिन अभी उसने अस्थायी छूट दी है।

जब पॉम्पियो से यह पूछा गया कि क्या भारत और चीन ने यह यकीन दिलाया है कि वे छह माह में ईरान से तेल की खरीद बंद कर देंगे तो अमेरिकी विदेश मंत्री इस सवाल को टाल गए। बता दें कि ईरान को लेकर ट्रंप का रुख बहुत कठोर रहा है। अमेरिका कह चुका है कि वह परमाणु कार्यक्रम और मिसाइल परीक्षण जैसे फैसलों से पीछे हटे और वार्ता करे। अमेरिका ईरान पर साइबर हमले और आतंकी समूहों को समर्थन देने का आरोप भी लगाता रहा है। इन सबके बावजूद ईरान कह चुका है कि वह अमेरिका की धमकियों के सामने झुकने वाला नहीं है।

LEAVE A REPLY