बेंगलूरु। पूर्वोत्तर भारत के तीन राज्यों त्रिपुरा, मेघायल और नगालैंड से कांग्रेस पार्टी के सफाए को प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येड्डीयुरप्पा ने कर्नाटक विधानसभा के आगामी चुनाव का स्पष्ट संकेत माना है। उन्होंने कहा कि तीनों राज्यों ने भारत को ’’कांग्रेस-मुक्त’’ बनाने का जनादेश दिया है और यही जनादेश मई में होनेवाले कर्नाटक के चुनाव में भी दोहराया जाएगा। वह शनिवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में पूर्वोत्तर राज्यों के चुनाव नतीजों पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे। उन्होंने दावा किया कि मतदाताओं ने कांग्रेस और वामपंथी पार्टियों को पूरी तरह नकार दिया है। यह एक सकारात्मक जनादेश है, जो पूरी तरह से स्पष्ट है। येड्डीयुरप्पा ने दावा कि किया कि पूर्वोत्तर के राज्यों ने स्पष्टत: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास के एजेंडे को अपना समर्थन दिया है। येड्डीयुरप्पा ने कहा कि कर्नाटक के मतदाता भी आगामी चुनाव में भ्रष्टाचार में लिप्त कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में कानून-व्यवस्था ध्वस्त होने और राज्य में समाज को बांटने की राजनीति के खिलाफ मतदान करेंगे। दीवार पर लिखी यह इबारत मुख्यमंत्री सिद्दरामैया के लिए अब पूरी तरह से स्पष्ट है। कांग्रेस के राज के दिन अब लदने वाले हैं और इसकी उल्टी गिनती भी शुरू हो चुकी है। येड्डीयुरप्पा ने पूर्वोत्तर के चुनाव नतीजों की घोषणा के तत्काल बाद जारी एक विज्ञप्ति में दावा किया कि इसने कर्नाटक में भाजपा के कार्यकर्ताओं का उत्साह ब़ढाया है। जमीनी कार्यकर्ता अब पूरे दम-खम के साथ पार्टी अध्यक्ष अमित शाह द्वारा निर्धारित १५० सीटों पर जीत के लक्ष्य को हासिल करने के लिए काम शुरू कर देंगे। उन्होंने कहा, ’’मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को शासन और संगठन के स्तरों पर उनके शानदार नेतृत्व के लिए बधाई देता हूं्। उनके सफल नेतृत्व की ही वजह से पार्टी को उन राज्यों में भी चुनाव जीतने में कामयाबी मिली है, जिन राज्यों में पहले भाजपा कभी जीत दर्ज नहीं कर सकी थी।’’ उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर के बाशिंदे अपने यहां विकास की धारा बहती हुई देखना चाहते हैं। उन्होंने केंद्र में मोदी सरकार के काम-काज से प्रभावित होकर भाजपा को अपना समर्थन दिया है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY