imran khan pak pm
imran khan pak pm

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की बदहाल अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए प्रधानमंत्री इमरान खान कई जतन कर चुके हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास की गाड़ियां और भैंसें तक नीलाम कर दीं लेकिन हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। इस बीच चीन और सऊदी अरब से थोड़ी राहत मिली है, पर वह काफी नहीं है। ऐसे में इमरान खान ने अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए नया दांव चला है, जिसकी मुल्कभर में चर्चा है और लोग मजाक भी उड़ा रहे हैं।

वहां राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवाओं की ओर से की गई घोषणाओं के अनुसार लोगों को ‘सिन टैक्स’ चुकाना होगा। लोगों ने उर्दू में इसका अनुवाद ‘गुनाह महसूल’ और हिंदी में ‘पाप कर’ किया है। इसके साथ ही ट्विटर पर मजेदार प्रतिक्रियाओं का दौर भी शुरू हो गया है। पाकिस्तान में यह ‘गुनाह टैक्स’ सिगरेट और शर्बत पर लगाया जाएगा।

पाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्री अमीर महमूद कियानी ने मंगलवार को इसकी पुष्टि की है। एक स्वास्थ्य सम्मेलन में उन्होंने कहा कि पीटीआई सरकार देश के जीडीपी के पांच प्रतिशत हिस्से वाला स्वास्थ्य बजट बनाना चाहती है, जिसके लिए आय में वृद्धि करनी होगी। सरकार इसके लिए विभिन्न उपायों पर गौर कर रही है।

महमूद कियानी ने पाकिस्तान की खस्ताहाल अर्थव्यवस्था का जिक्र किया और बताया कि इमरान के नेतृत्व में सरकार ने कई उपायों पर अमल किया जो चर्चा में रहे हैं। उन्होंने बताया कि सरकार ने मवेशियों की नीलामी की। साथ ही वीवीआईपी कारें नीलाम कर अर्थव्यवस्था की बेहतरी की ओर कदम उठाया। इसी सिलसिले में अब ‘सिन टैक्स’ को आजमाया जा रहा है।

सरकार तंबाकू उत्पाद और शर्बत पर गुनाह टैक्स लगाकर आमदनी इकट्ठी करेगी और वह रकम स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च की जाएगी। इस संबंध में एक उच्चाधिकारी ने तर्क दिया है कि दुनिया के 45 देशों में ऐसे टैक्स का प्रचलन है। वहीं काफी यूजर्स ने इमरान सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा है कि अब पाकिस्तान में टैक्स चुकाकर गुनाह करने की छूट होगी। दूसरे यूजर ने कहा कि पाकिस्तान को ऐसे उटपटांग टैक्स लगाने की नौबत ही नहीं आएगी, वह दुनिया में आतंकवाद फैलाना बंद कर दे।

बता दें कि पाकिस्तान सरकार अपने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का मात्र दशमलव पांच से दशमलव आठ प्रतिशत हिस्सा ही व्यय करती है। पाकिस्तान से कई लोग ट्विटर पर भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से वीजा और इलाज की गुहार लगा चुके हैं, जिसके बाद मानवता के आधार पर ऐसे लोगों को इजाजत मिल जाती है। पाकिस्तान के नागरिक यहां अस्पतालों में इलाज कराते हैं, वहीं उसकी फौज सरहद पर आतंकवाद को बढ़ावा देकर बेगुनाह लोगों का लहू बहाती है।

LEAVE A REPLY