कोलंबो। ऑलराउंडर विजय शंकर ने कहा कि वह भारतीय टीम के नियमित खिला़डी हार्दिक पंड्या के साथ तुलना करके खुद को दबाव में नहीं लाना चाहते और इसके बजाय वह अपने प्रदर्शन में सुधार करने पर ध्यान लगाएंगे। विजय ने दो अहम विकेट झटककर मैन ऑफ द मैच पुरस्कार हासिल किया जिससे भारत ने गुरुवार रात त्रिकोणीय सीरीज के दूसरे टी२० अंतरराष्ट्रीय मैच में बांग्लादेश को छह विकेट से शिकस्त दी थी। उन्होंने कहा, मेरे लिए, सबसे महत्वपूर्ण चीज हर दिन बेहतर से बेहतर होना है। मैं हार्दिक से तुलना का दबाव नहीं चाहता क्योंकि वह भी ऑलराउंडर हैं। मुझे लगता है कि ज्यादातर क्रिकेटर तुलना नहीं चाहते, लेकिन हम सभी के लिए यह अहम है कि हम अपना सर्वश्रेष्ठ दिखाएं और खुद को दबाव में लाने के बजाय अपना बेहतर प्रदर्शन करें। उनसे यह सवाल पूछा गया था कि वह बतौर ऑलराउंडर टीम में अपना स्थान पक्का करने के लिए किस तरह की योजना बना रहे हैं जबकि हार्दिक इस स्थान पर मजबूती से बने हुए हैं।विजय को पहले अंतरराष्ट्रीय विकेट का इंतजार करना प़डा क्योंकि सुरेश रैना ने मिड ऑफ पर कैच छो़ड दिया था और वाशिंगटन सुंदर भी इस गेंदबाज के पहले ओवर में कैच के प्रयास से चूक गए थे। यह पूछने पर कि ये कैच छो़डने से वह प्रभावित हुए थे तो विजय ने कहा, इससे मुझे ज्यादा असर नहीं प़डा क्योंकि कैच छूटना खेल का ही हिस्सा हैं। उन्होंने कहा, निश्चित रूप से उस समय अगर मुझे पहला विकेट मिलता तो मुझे अच्छा लगता है लेकिन हम जानते हैं कि सफेद बॉल से दूधिया रोशनी में क्षेत्ररक्षण करना आसान नहीं है। मैंने इसे इतनी अहमियत नहीं दी थी, मैं सिर्फ अगली गेंद डालने पर ध्यान लगा रहा था। भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने टीम की तारीफ की। उन्होंने कहा, यह शानदार प्रदर्शन था, उनसे इसी की उम्मीद थी। मैच की अंतिम गेंद तक यह शानदार रहा। रोहित ने हालांकि कहा कि भारत को दूसरे टी२० मैच के दौरान क्षेत्ररक्षण में ढीले प्रदर्शन के बाद इसमें सुधार करना होगा। उन्होंने कहा, हमने देखा कि श्रीलंका के खिलाफ क्या गलत हुआ और हमने सोचा कि हिट करना काफी अच्छा विकल्प था। हम उन्हें लंबी बाउंड्री के पीछे दौ़डाना चाहते थे। मुझे लगा कि गेंदबाजों ने बहुत अच्छी तरह योजना का कार्यान्वयन किया।

LEAVE A REPLY