mor mukut sharma
mor mukut sharma

रायपुर। छत्तीसगढ़ में दंतेवाड़ा के अरनपुर में 30 अक्टूबर को घात लगाकर किए गए नक्सली हमले की कई खौफनाक तस्वीरें सामने आ रही हैं। इस दौरान नक्सलियों ने हिंसा और निर्दयता का ऐसा खेल खेला कि घटनास्थल का हाल बताते पुलिस अधिकारी की आंखें भी नम हो गईं। मंगलवार को दो जवानों की शहादत हुई। दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साही गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिन्होंने बाद में दम तोड़ दिया।

दूरदर्शन की यह टीम विधानसभा चुनावों की कवरेज के सिलसिले में आई थी। इसी दौरान नीलावाया के जंगलों में नक्सलियों ने हमला कर दिया। इस घटना के बाद एक शख्स का वीडियो वायरल हुआ है जो दूरदर्शन की टीम में वीडियो जर्नलिस्ट थे। इनका नाम मोर मुकुट शर्मा है। जब नक्सली गोलीबारी कर रहे थे, तो कई गोलियां इनके सिर के ऊपर से गुजरी थीं। उस वक्त इन्हें लगा कि यही ज़िंदगी का आखिरी लम्हा है। ऐसे में उन्होंने अपनी मां को याद किया और उनके नाम एक पैगाम रिकॉर्ड किया, जो बाद में सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ।

गोलीबारी में खुद को बचाने के लिए मोर मुकुट शर्मा जमीन पर लेट गए। उन्होंने एक वीडियो संदेश में अपनी मां को संबोधित करते हुए कहा कि वे उन्हें बहुत प्यार करते हैं। हो सकता है कि इस हमले में मारे जाएं। अभी स्थिति सही नहीं है। उन्हें लगा कि बस, ज़िंदगी का साथ यहीं तक है। अब सबको अलविदा कहने का वक्त आ गया है। उन्हें महसूस हुआ कि अब यहां से बचना नामु​मकिन है। फिर भी उन्होंने खुद को संभाला और वीडियो रिकॉर्ड करते रहे।

मोर मुकुट शर्मा ने बताया कि वे बतौर वीडियो जर्नलिस्ट अपना फर्ज निभाते रहे। उनके साथी अच्युतानंद साहू को गोली लग चुकी थी और वे जमीन पर गिर गए थे। वहां भीषण गोलीबारी हो रही थी। अपने वीडियो संदेश में मोर मुकुट शर्मा ने कहा कि पता नहीं क्यों, मौत को सामने देखकर भी डर नहीं लग रहा है। बाद में सुरक्षाबलों ने उन्हें बचा लिया।

मोर मुकुट ने बताया कि यह रास्ता काफी संकरा था, इसलिए उन्हें बाइक पर सफर करना पड़ा। नक्सलियों ने मौका पाकर हमला कर दिया। घटना के समय यदि कुछ इंच भी सिर ऊपर कर लेते तो गोलियां पार हो जातीं।

ये भी पढ़िए:
– इन खूबियों के साथ हिंद की शान बनेगी सरदार पटेल की प्रतिमा
– भ्रष्टाचार मामले में बढ़ी खालिदा ज़िया की मुश्किल, पांच साल की सजा 10 साल में तब्दील
– पनामा पेपर आरोप के बाद शिवराज के बेटे ने राहुल पर किया मानहानि का मुकदमा
– जहरीली होती जा रही भारत की हवा, 1 लाख से ज्यादा बच्चे तोड़ चुके दम

LEAVE A REPLY