बेंगलूरु/दक्षिण भारतयहां शिवाजीनगर के श्वेताम्बर स्थानकवासी बावीस संप्रदाय जैन संघ ट्रस्ट द्वारा शुक्रवार को इंदौर से आईं दीक्षार्थी सिमरन का स्वागत एवं अभिनंदन किया गया। संघ के मंत्री संपतराज मांडोत एवं अन्य पदाधिकारियों ने संघ द्वारा अभिनंदन किया। संघ के सदस्य सुनील सांखला ने दीक्षार्थी का परिचय दिया। संघ की ओर से उनके आगामी २१ जनवरी को इंदौर में महासाध्वीश्री पुनीतज्योति जी म. सा. के सान्निध्य में दीक्षा लेने पर अनुमोदना एवं मंगलकामनाएं दी। इस अवसर पर सुदर्शन मांडोत, किशोर गादिया, तिलोक कटारिया एवं अन्य सदस्यगण एवं शहर के अनेक श्रावक उपस्थित थे। यहां शुक्रवार को श्वेताम्बर स्थानक बावीस संप्रदाय जैन संघ ट्रस्ट के तत्वावधान में श्री विनय मुनि जी म. सा. ने उत्तराध्ययन सूत्र २९ वें अध्ययन पर आधारित प्रवचन मंे कहा कि क्रोध पर विजय से क्षमा गुण की प्राप्ति होती है। जब व्यक्ति क्रोध पर विजय प्राप्त कर लेता है तो उसके अंदर अन्य सद्गुणों का विकास होता है। क्षमा से परीषहांे पर विजय मिलती है। नया क्रोध मोह का कर्म नहीं बँधता है। पूर्व बंध कर्म का क्षय होता है।

LEAVE A REPLY