firecrackers for diwali
firecrackers for diwali

नई दिल्ली। इन दिनों देशभर में दिवाली की तैयारियां हो रही हैं। बाजार सज रहे हैं और लोग खरीदारी की योजनाएं बना रहे हैं। परंपरागत दुकानों के अलावा आॅनलाइन बाजार खूब धूम मचा रहे हैं। अगर आप पटाखे भी आॅनलाइन खरीदना चाहते हैं तो संभल जाएं, क्योंकि यह भूल बहुत भारी पड़ सकती है। हो सकता है कि आपको जेल और अदालतों के चक्कर लगाने पड़ जाएं।

उच्चतम न्यायालय ने 23 अक्टूबर को देशभर में पटाखों की खरीद, बिक्री और चलाने को लेकर नियम जारी कर दिए हैं। अगर आपको भी पटाखे चलाने पसंद हैं तो इन्हें जरूर जानें, अन्यथा त्योहार मनाते किसी मुसीबत में फंस सकते हैं।

1. अगर आप पटाखे चलाते हैं तो अपनी खुशियों के साथ ही पर्यावरण और दूसरों की सेहत का भी ध्यान रखिए। बहुत ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाले पटाखों से परहेज करें। दिवाली पर पटाखे चलाने के लिए न्यायालय ने जो समय दिया है, वो रात 8 से रात 10 बजे तक ही है। जिम्मेदार नागरिक बनें और इस समय के बाद पटाखे न चलाएं।

2. नया साल और क्रिसमस खुशियों के मौके हैं। अगर आप इन दिनों में पटाखे चलाना चाहते हैं तो न्यायालय द्वारा तय किया गया समय रात 11.45 से रात 12.45 बजे तक है। इसके बाद किसी को भी पटाखे चलाने की इजाजत नहीं होगी।

3. ग्रीन (इको फ्रेंडली) पटाखे जलाने पर जोर दें। अगर आप पटाखा विक्रेता हैं तो कम प्रदूषण फैलाने वाले पटाखों की बिक्री को प्रोत्साहित करें। पटाखे बेचने के लिए लाइसेंस जरूर लें। आॅनलाइन पटाखे न बेचें।

4. पटाखों की लड़ियां न चलाएं। हो सकता है कि आपने अब तक हर दिवाली और दूसरे मौकों पर खूब चलाई हों लेकिन अब न चलाएं। सर्वोच्च न्यायालय ने अपने फैसले में पर्यावरण की फिक्र है, इसलिए नियमों का पालन करें और लड़ियां चलाने से बचें। अगर इसके बावजूद कोई इन नियमों का उल्लंघन करेगा तो यह उच्चतम न्यायालय की अवमानना होगी और उसे कानूनी कार्रवाई का सामना करना होगा।

ये भी पढ़िए:
– वो मंडी जहां आलू-गोभी की तरह बिकते हैं पिस्टल और खतरनाक हथियार, किलो के भाव गोलियां!
– शादी में दहेज पर बिगड़ी बात, लड़की वालों ने दूल्हे का कर दिया मुंडन!
– केरल नन दुष्कर्म मामले में बिशप के खिलाफ बयान देने वाले अहम गवाह की मौत, गहराया रहस्य
– फरार हुए दशहरा कार्यक्रम आयोजक ने जारी किया वीडियो, रोते हुए बोला- मेरी क्या गलती?

LEAVE A REPLY