चेन्नई। शहर में अपराधी तत्वों के खिलाफ बेहद सक्रिय हुई पुलिस के अभियान को आज उस समय ब़डी कामयाबी मिली, जब वांछित अपराधी बिनू पप्पाचन ने मंगलवार को अंबत्तूर पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। पिछले हफ्ते उस समय पुलिस उसकी गिरेहबान तक पहुंच गई थी, जिस समय वह अपने साथियों के साथ अपना जन्मदिन मना रहा था। उसकी जन्मदिन पार्टी में शामिल ७५ लोगों को पुलिस ने धर दबोचा था। जानकारी के मुताबिक, पिछले हफ्ते ६ फरवरी को एक हत्या का आरोपी और अन्य २८ आपराधिक मामलों का सामना कर रहा बिनू शहर के बाहरी हिस्से में स्थित मलयम्बक्कम में अपना ४७वां जन्मदिन मना रहा था। जैसे ही पुलिस को इस पार्टी में दर्जनों वांछित अपराधियों की मौजूदगी की खबर मिली वैसे ही पुलिस अधिकारियों ने वहां दबिश दी। इस दबिश में ७५ आरोपियों को पक़डकर पुलिस ने उनके कब्जे से ४५ दोपहिया वाहन, सात कारें, १५ घातक हथियार और मोबाइल फोन जब्त किए थे। इसके बावजूद पुलिस को बिनू और दो अन्य गिरोहबाज कानगू और विकी उर्फ विघ्नेश पुलिस की आंखों में धूल झोंककर फरार हो गए थे। बिनू सहित इन तीनों को दबोचने के लिए पुलिस ने आठ विशेष टीमें गठित की थीं। जानकारी के मुताबिक, अपनी बर्थडे पार्टी से फरार होने के बाद पुलिस की सक्रियता के मद्देनजर बिनू लगातार अपने ठिकाने बदल-बदलकर छिपता रहा था। बहरहाल, उसे यकीन हो गया कि पुलिस अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचाए बिना मानने वाली नहीं है। सो, मंगलवार को उसने खुद ही चलकर अंबत्तूर पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। वहीं, कानगू और विकी अब तक फरार बताए गए हैं। बिनू का जन्म केरल के त्रिचूर जिले में हुआ था। उसने चेन्नई आकर एक चाय की दुकान से अपने जीवन की शुरुआत की और बाद में वह अपराध की काली दुनिया से जु़ड गया।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY