चेन्नई। तमिलनाडु बिजली बोर्ड के कार्यकर्ताओं के एक वर्ग द्वारा वेतन में वृद्धि की मांग के साथ ह़डताल पर जाने की घोषणा करने के के एक दिन बाद रविवार को राज्य सरकार ने उन्हें बातचीत के लिए आमंत्रित किया। रविवार को यहां राज्य सचिवालय में संवाददाताओं से बात करते हुए बिजली मंत्री पी तंगमनी ने कहा कि सरकार वार्ता के लिए तैयार है। दरवाजे खुले हैं वह किसी भी समय चर्चा के लिए आ सकते हैं, उन्होंने कहा कि मैंने तमिलनाडु बिजली बोर्ड के कर्मचारियों से अपनी ह़डताल वापस लेने का अनुरोध किया है। उन्होंने यह भी कहा कि यूनियनों के ह़डताल की घोषणा के पीछे कोई राजनीतिक मंशा छिपी मंशा है। जब सरकार वार्ता के लिए तैयार है तो कर्मचारियों द्वारा ह़डताल पर जाने की घोषणा करना हैरान करने वाला है। राज्य परिवहन निगम के कर्मचारियों की ह़डताल समाप्त होने के कुछ दिनों बाद ही राज्य बिजली बोर्ड के कर्मचारियों के यूनियनों की ओर से इस प्रकार की ह़डताल करने की घोषणा की गई है। कुछ विपक्ष समर्थित यूनियनों द्वारा जानबूझकर कर्मचारियों को ह़डताल पर जाने के लिए उकसाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य बिजली बोर्ड के कर्मचारियों की जो भी मांगे हैं सरकार उनपर गंभीरता से विचार कर रही है। सरकार ने कर्मचारियों को अंतरिम राहत देने की भी घोषणा की है। उन्होंने कहा कि बिजली बोर्ड के करार पर कार्य करने वाले कर्मचारियों के पारिश्रमिक में बढोत्तरी को लेकर विचार-विमर्श किया जा रहा है।सेवानिवृत्ति के बाद मिलने वाले लाभ को बढाने के बारे में भी आवश्यक प्रक्रिया शुरु की गई है। इसलिए कर्मचारियों को ह़डताल पर नहीं जाना चाहिए और सरकार से बात करना चाहिए।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY