चेन्नई। राज्य सरकार द्वारा आयोजित की जाने वाली जल प्रदर्शनी के १२ वें वार्षिक संस्करण का उद्घाटन गुरुवार को राज्य के पर्यावरण मंत्री केसी करुपन्नन ने नंदमबाक्कम स्थित चेन्नई ट्रेड सेंटर में डॉ राजारमणी, डॉ। सुनारमूर्ति, सीएलआरआई के वैज्ञानिक डॉ षन्मुगम की मौजूदगी में किया। तीन दिवसीय प्रदर्शनी के दौरान जल एवं अपशिष्ट जल के बारे में ज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के आदान-प्रदान के पर बल दिया जाएगा। इस वार्षिक अंतर्राष्ट्रीय जल प्रदर्शनी में पूरे दक्षिण एशिया से जल विशेषज्ञ शामिल हो रहे हैं। प्रदर्शनी के दौरान विशेषज्ञों द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित करने, समुद्री जल को पीने लायक जल में परिवर्तित करने, जल को पीने लायक बनाने की प्रक्रिया, अपशिष्ट जल का उपयोग और पानी का न्यायपूर्ण ढंग से उपयोग करने के तरीकों के बारे में बताया जाएगा। प्रदर्शनी में जल प्रसंस्करण के अत्याधुनिक उत्पादों और सेवाओं की पेशकश करने वाली ब़डी कंपनियों के प्रतिनिधि भी शिरकत करेंगे। इसमें २७५ से अधिक प्रदर्शकों, ५००० उत्पादों और २०,००० से अधिक पानी के विशेषज्ञों के पहुंचने की उम्मीद है। एक ही मंच पर एकजुट होने वाले विशेषज्ञ यह पानी को स्वच्छ और पीने लायक बनाने कि नई प्रौद्योगिकियों, उत्पादों, जल प्रबंधन और प्रभावी संरक्षण विधियों के बारे में जानकारियों को आदान-प्रदान करेंगे। इन विशेषज्ञों द्वारा विभिन्न तकनीकों और समाधानों को सामने रखा जाएगा। जल प्रदर्शनी २०१८ के दौरान बहु प्रतीक्षित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन ‘वाटमैन’’ का आयोजन शुक्रवार और शनिवार को शहर के एक पांच सितारा होटल में होगा। इस दौरान अपशिष्ट जल का बेहतर ढंग से उपयोग करने और नदियों तथा अन्य जल निकायों को किसानों की बेहतरी के लिए उपयोग करनें तथा कृषि कार्यों के लिए अपशिष्ट पानी का समुचित ढंग से उपयोग करने के तरीकों के बारे में भी बताया जाएगा।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY