चेन्नई। मदुरै कामराज विश्वविद्यालय (एमकेयू) से मान्यता प्राप्त एक निजी कॉलेज की सहायक व्याख्याता द्वारा छात्राओं को परीक्षा मंे बेहतर अंक प्राप्त करने और पैसे के लिए छात्राओं को बरगलाने के मामले में पुलिस की अपराधा शाखा के अपराध अन्वेषण विभाग (सीबी-सीआईडी) के अधिकारियों को कुछ और जानकारियां मिली हैं। हिरासत में ली गई निर्मला देवी ने जांच अधिकारियों को कुछ हैरान करने वाली बातें बताई हैं। पुलिस अधीक्षक एस राजेश्वरी के नेतृत्व में सीबी-सीआईडी की टीम लगातार निर्मला देवी से पूछताछ कर रही है।सूत्रों के अनुसार जांच के दौरान अधिकारियों को यह पता चला है कि निर्मला देवी राज्य के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के कुछ अधिकारियों और कुछ राजनेताओं के संपर्क में थी। सूत्रों के अनुसार जिनके बारे में निर्मला देवी ने अधिकारियों के सामने खुलासा किया है उनमें से दो लोग फरार हैं और पुलिस उन दोनों की तलाश में जुटी हुई है। निर्मला देवी द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर सीबी-सीआईडी अधिकारियों ने निजी कॉलेज के एक अन्य सहायक व्याख्याता मुरुगन और इसी कॉलेज के एक विद्यार्थी करुप्पुस्वामी से पूछताछ करने की योजना बनाई थी लेकिन जब पुलिस इनके घरों पर पहुंची तो यह दोनों फरार हो चुके थे।इसी क्रम में राज्यपाल द्वारा इस मामले की जांच के लिए नियुक्त किए गए भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी आर संथानम ने शनिवार को मदुरै में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि प्रथम चरण की जांच शनिवार को समाप्त हो गई और अब जल्द ही दूसरे चरण की जांच शुरु की जाएगी। उन्होंने बताया कि अभी तक इस मामले में कोई भी नागरिक किसी प्रकार की जानकारी देने के लिए आयोग से नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि वह इस संबंध में विश्वविद्यालय के कुछ अधिकारियों और विद्यार्थियों से भी पूछताछ करेंगे। उन्होंने कहा कि जांच अभी प्राथमिक चरण है इसलिए जांच के विवरण के बारे में नहीं बता सकते क्योंकि ऐसा करने पर जांच प्रभावित हो सकती है।संथानम ने शनिवार को दोपहर ३ बजे से विश्वविद्यालय संघ के सदस्यों से भी बातचीत की। उन्होंने बताया कि उनकी जांच का दूसरा चरण आगामी बुधवार से शुरु होगा। उन्होंने कहा कि निर्मला देवी से पूछताछ करने के लिए उन्होंने सीबी-सीआईडी से अनुमति मांगी है। जैसे ही सीबी-सीआईडी द्वारा अनुमति दी जाती है हम आरोपी से पूछताछ करेंगे। संथानम ने कहा कि वह जांच रिपोर्ट सौंपने की जल्दबाजी में नहीं है और सभी तथ्यों की पूरी तरह से जांच करने और पुष्टि करने के बाद ही अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे।

LEAVE A REPLY