बेंगलूरु। वर्ष २०१६ के द्विवार्षिक राज्यसभा चुनाव के दौरान जनता दल (एस) के ह्विप का उल्लंघन करते हुए कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करने वाले सात निलंबित विधायकों ने २५ मार्च को कांग्रेस का दामन थामने का निर्णय लिया है। इन सात विधायकों में शामिल जमीर अहमद ने शुक्रवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा, ’’हम सभी ने विधानसभा अध्यक्ष केबी कोलीवा़ड को कल सुबह १० बजे सदन की सदस्यता से अपना-अपना इस्तीफा सौंप देंगे। इसके बाद सातों विधायक २५ मार्च को मैसूरु में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस की औपचारिक सदस्यता हासिल करेंगे।’’ उन्होंने एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ’’आज राज्यसभा की चार सीटों के लिए हुए मतदान में हम सातों विधायकों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। अपना मत डालने के बाद हमने जनता दल (एस) के पोलिंग एजेंट्स को अपने बैलट पेपर्स दिखाए हैं। आप उनसे पूछ सकते हैं कि हमने किस पार्टी के प्रत्याशी को अपना वोट दिया है।’’पत्रकारों ने जमीर अहमद से जनता दल (एस) द्वारा मतदान प्रक्रिया का बहिष्कार करने और चुनाव अधिकारियों को कांग्रेस का एजेंट कहे जाने पर उनकी प्रतिक्रिया मांगी। उन्होंने कहा, ’’वह (जद-एस नेता) हताश और निराश हो चुके हैं। यही वजह है कि वे इस प्रकार की गैर-जरूरी आपत्ति जता रहे हैं।’’ वहीं, सात विधायकों के सामूहिक रूप से कांग्रेस की सदस्यता लिए जाने की विस्तृत जानकारी देते हुए जमीर अहमद ने बताया कि मैसूरु में कांग्रेस की रैली के दौरान राहुल गांधी के साथ ही मुख्यमंत्री सिद्दरामैया, कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी (केपीसीसी) के अध्यक्ष डॉ. जी. परमेश्वर और अन्य वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता हासिल की जाएगी। उल्लेखनीय है कि जनता दल (एस) ने पिछले राज्यसभा चुनाव में पार्टी ह्विप का उल्लंघन कर कांग्रेस के प्रत्याशी के समर्थन में मतदान करने वाले जिन सात विधायकों को पार्टी ने निलंबित किया है, उनमें चामराजपेट सीट के विधायक जमीर अहमद खान, मंड्या सीट के विधायक एन. चलुवरायस्वामी, पुलकेशीनगर सीट के विधायक अखंड श्रीनिवासमूर्ति, माग़डी सीट के विधायक एचसी बालकृष्णा, हागरीबोम्मनहल्ली सीट के विधायक भीम नाइक, श्रीरंगपटना सीट के विधायक रमेश बंडीसिद्देगौ़डा और गंगावती विधानसभा सीट के विधायक इकबाल अन्सारी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY