चेन्नई। चेन्नई, कांचीपुरम और तिरुवल्लूर जिले में सोमवार को भी मूसलाधार बारिश जारी रहने के बाद प्रशासन ने स्कूलों में छुट्टी की घोषणा कर दी। मौसम विभाग के अनुसार, पिछले २४ घंटों में चेन्नई के निकट एन्नोर में सबसे ज्यादा वर्षा हुई है। सोमवार सुबह सा़ढे आठ बजे तक ११ सेंटीमीटर बारिश रिकार्ड की गई । क्षेत्रीय चक्रवात चेतावनी केन्द्र के निदेशक एस. बालाचन्द्रन ने यहां संवाददाताओं को बताया कि बंगाल की खा़डी पर १० नवंबर से ही न्यून दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जो सोमवार को मजबूत हो गया। हालांकि अगले एक-दो दिन में उसके उत्तर की ओर बढ़ने की संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि इससे अगले दो दिनों में बारिश कम होगी। पिछले २४ घंटों में तमिलनाडु के उत्तरी तटवर्ती क्षेत्रों में खूब बारिश हुई है।चेन्नई में रविवार देर शाम से शुरु हुई बारिश सोमवार को भी जारी रही। भारी बारिश होने के कारण शहरवासियों को काफी कठिनाइयों का सामना करना प़डा। सुबह सवेरे कार्यालय के लिए निकले लोगों को खासी परेशानियां हुई। रात भर मूसलाधार बारिश होने के कारण शहर के साहुकारपेट, व्यासरपाडी,पट्टालम, तोंडियारपेट सहित अन्य कई हिस्सों में स़डकों पर घुटनों तक पानी जमा हो गया जिसके कारण सोमवार की सुबह दोपहिया वाहनों से निकले लोगों को जगह-जगह पर परेशानियों का सामना करना प़डा।नगर निगम के अधिकारियों ने बारिश के कारण पैदा हुए जलभराव की समस्या के समाधान के लिए कार्य करना शुरु कर दिया है। निगम के अधिकारियों ने सोमवार को पत्रकारों को बताया कि मौसम विभाग की ओर से पहले ही बारिश होने का पूर्वानुमान जारी किया गया था जिसके कारण नागरिक निकाय तैयार है। जिन स्थानों पर जलभराव की समस्या पैदा हुई है वहां पर पंपिंग सेटों की मदद से पानी निकालने का कार्य किया जा रहा है। कुछ स़डकों पर मैनहोल के ढक्कनों को अस्थायी तौर पर खोलकर पानी निकासी की व्यवस्था की जा रही है। निगम के कर्मचारी अपनी निगरानी में मैनहोल के ढक्कन खुलवा रहे हैं और पानी निकलने तक वहां पर इंतजार कर रहे हैं ताकि कोई भी व्यक्ति अनजाने में इन खुले मैनहोल में नहीं गिरे।चेन्नई जिले के कलेक्टर वी एंबुसेल्वम ने बताया कि ’’उत्तरी-पूर्व मॉनसून की वजह से चेन्नई और आसपास के इलाकों में पिछले कुछ दिनों से लगातार बारिश हो रही है। इसी वजह से छात्रों की सुरक्षा को देखते हुए चेन्नई में स्कूलों को बंद किया गया है। ज्ञातव्य है कि पिछले २१ घंटों में चेन्नई में ६.६ सेमी बारिश दर्ज की गई है।’’ उल्लेखनीय है कि भारी बारिश की वजह से तमिलनाडु के तटीय इलाकों में पिछले दिनों भी एक सप्ताह के लिए स्कूल बंद कर दिए गए थे। स्थिति सामान्य होने पर यह स्कूल गत मंगलवार को खुले थे। अब एक बार फिर बारिश होने के कारण इन स्कूलों को एक बार फिर से बंद कर दिया गया है। गौरतलब है कि पिछले हफ्ते बारिश से जु़डी घटनाओं में १२ लोगों की मौत हो गई थी। रविवार की रात कांचीपुरम जिले में ११८ एक़ड में फैली नल्लूर झील का तटबंध टूट गया। झील के किनारे टूटने के कारण पानी झील के आसपास स्थित १५ एक़ड धान की खेतों में प्रवेश कर गया जिससे खेतों में लगी धान की फसल नष्ट हो गई। स्थानीय पंचायत ने शनिवार की शाम ही झील के तटबंध में दरारें देखी थी और उसके बाद इसको टूटने से बचाने के लिए इसके निकट रेत की बोरियां भी रखी गई थी लेकिन रविवार की रात हुई भारी बारिश के बाद झील का तटबंध पूरी तरह से टूट गया। कांचीपुरम के जिला कलेक्टर पी पोन्नैया ने मौके पर पहुंचकर हालत का जायजा लिया । उन्होंने बताया कि फिलहाल रिंग बंड द्वारा टूटे किनारे को बंद करने की कोशिश की जा रही है।

LEAVE A REPLY