चेन्नई/दक्षिण भारतअन्नाद्रमुक के दो वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी के मुखपत्र में प्रकाशित एक आलेख पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सोमवार को कहा कि कोई स्तंभकार इस बात को तय नहीं कर सकता कि पार्टी को चुनाव के समय किस दल से समझौता करना है और किससे नहीं। गौरतलब है कि पार्टी के मुखपत्र में प्रकाशित एक आलेख में कहा गया है कि भाजपा के साथ काम करना एक ‘दोनाली बंदूक’’ के जैसा है। राज्य के मत्स्य पालन मंत्री डी जयकुमार और अन्नाद्रमुक के सांसद एवं लोकसभा के उपाध्यक्ष एम थंबीदुरई ने कहा कि चुनाव के समय गठबंधन करने का निर्णय पार्टी आला कमान का है। जयकुमार ने संवाददाताओं से कहा, गठबंधन करने के बारे में निर्णय चुनाव के समय ही किया जाता है। और इस बारे में पार्टी निर्णय लेती है न कि कोई स्वतंत्र स्तंभकार। यह पूछने पर कि यदि भाजपा तमिलनाडु के हितों के प्रतिकूल जाती है तो क्या अन्नाद्रमुक उस का विरोध करेगी, जयकुमार ने कहा़, हां। उन्होंने कहा कि अन्नाद्रमुक अभी भी उसी तरह से अनुशासित है जिस तरीके से यह दिवंगत मुख्यमंत्री जे जयललिता के नेतृत्व के दौरान थी। अन्नाद्रमुक के मुखपत्र नमधु पुरातची थलैवी अम्मा में कल प्रकाशित एक आलेख में कहा गया था कि मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में ऐसा लगता है कि भाज पा के साथ काम करना एक दोनाली बंदूक की तरह है। आलेख पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये थंबीदुरई ने कहा कि भाजपा और अन्नाद्रमुक के बीच संबंधों को कोई मलिन नहीं कर सकता ।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY