चेन्नई। भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) प्रदेशाध्यक्ष तमिलसै सौंदरराजन ने सोमवार को अखिल भारतीय अन्ना द्रवि़ड मुनेत्र कषगम(अन्नाद्रमुक) के एक निष्कासित प्रवक्ता के सी पलानीसामी के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि भाजपा के खिलाफ हर वक्त ऐसे आरोप लगते रहे हैं। पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने और पार्टी की नीतियों का उल्लंघन करने के आरोप में अन्नाद्रमुक से निष्काषित प्रवक्ता के सी पलानीसामी ने आरोप लगाया था तमिलनाडु की सत्तारू़ढ पार्टी भाजपा के हाथों की कठपुतली बन गई है। इस आरोप के बारे में पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर सौंदरराजन ने कहा कि भाजपा के खिलाफ इस प्रकार का आरोप लगना सामान्य है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार और राज्य सरकार के बीच विकास कार्यों और विभिन्न केन्द्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन में बेहतर समन्वय होने के कारण इस प्रकार के आरोप लगाए जाते हैं। उन्होंने पूछा, ’’क्या कोई कह सकता है कि एम के स्टालिन कांग्रेस के कहने पर राज्य में फैसला ले रहे हैं।’’सौंदरराजन ने कहा कि प्रत्येक पार्टी अपने फैसले खुद लेने में समर्थ है और भाजपा अन्नाद्रमुक के मामलों में हस्तक्षेप नहीं कर रही है।’’ साथ ही उन्होंने कहा कि लोग इस तरह के आरोपों पर यकीन नहीं करेंगे।पलानीसामी ने कहा था कि भाजपा के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार के खिलाफ पेश किए गए टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस के अविश्वाास प्रस्ताव का सत्तारू़ढ पार्टी समर्थन कर सकती है जिसके बाद उन्हें अन्नाद्रमुक की प्राथमिक सदस्यता से निष्काषित कर दिया गया थ। इस निष्कासन पर प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व सांसद पलानीसामी ने आरोपी लगाया था कि उन्हें भाजपा के दबाव में अन्नाद्रमुक से हटाया गया है। पलानीसामी ने यह भी कहा था कि राज्य के मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री स्वतंत्र रुप से निर्णय लेने में सक्षम नहीं है और उनका हर एक निर्णय भाजपा से प्रभावित होता है।

LEAVE A REPLY