निर्दलीय उम्मीदवार अकुला हनुमंत चप्पल बांटते हुए।
निर्दलीय उम्मीदवार अकुला हनुमंत चप्पल बांटते हुए।

हैदराबाद। राजनेताओं के बारे में आम जनता में यह धारणा बनती जा रही है कि ये चुनावों के दौरान किए गए वादे बाद में नहीं निभाते। इसी को आधार बनाकर तेलंगाना में एक निर्दलीय प्रत्याशी ने अपने चुनाव प्रचार के लिए विचित्र तरकीब आजमाई है। यह शख्स लोगों को चप्पल बांट रहा है। साथ ही यह भी कह रहा है कि यदि जीतने के बाद उसने वादा नहीं निभाया तो इसी चप्पल से पिटाई कर दें।

उसकी यह तरकीब लोगों का ध्यान आकर्षित कर रही है और सोशल मीडिया में उसकी तस्वीरें देख लोग मजेदार प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। इन दिनों तेलंगाना के कोरातला विधानसभा क्षेत्र में अकुला हनुमंत अपने प्रचार में जुटे हैं। वे निर्दलीय खड़े हुए हैं और घर-घर जाकर लोगों से मिल रहे हैं। साथ ही चप्पल भी बांट रहे हैं। उन्होंने लोगों से कहा है कि यदि चुनाव जीतने के बाद वे उनके वादों पर खरे न उतरें तो इसी चप्पल से पिटाई कर दी जाए।

अकुला हनुमंत ने बताया कि उनके पीछे कोई राजनीतिक दल नहीं है। वे स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर मैदान में उतरे हैं और चुनाव जीतने के बाद लोगों की आकांक्षाओं पर खरे उतरेंगे। उन्होंने कहा है कि अपने चुनाव घोषणा पत्र में उन्होंने जो वादे किए हैं, उन्हें निभाने के लिए पूरी कोशिश करेंगे।

अकुला हनुमंत का एक वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हुआ जिसमें वे लोगों से मिलकर चुनाव प्रचार कर रहे हैं। साथ ही चप्पलें भी बांट रहे हैं। अकुला ​हनुमंत को यकीन है कि लोग उनके वादों पर विश्वास जताएंगे। उन्होंने कहा है कि जीत के बाद अपने सभी वादों पर खरे उतरेंगे। इसलिए लोगों से घर-घर वोट मांग रहे हैं।

अकुला हनुमंत ने बताया कि चुनाव प्रचार के साथ ही लोगों को चप्पल भी दे रहा हूं। साथ ही यह कह रहा हूं कि यदि अपने वादों पर खरा न उतरूं तो मेरी दी हुई चप्पलों से ही पिटाई कर दी जाए। अकुला हनुमंत पर लोग कितना भरोसा जताएंगे और उन्हें अपने वादे निभाने का मौका मिलेगा या नहीं, यह तो 11 दिसंबर को ही स्पष्ट होगा। तेलंगाना में 7 दिसंबर को विधानसभा चुनाव हैं। अकुला हनुमंत जोरशोर से तैयारियों में जुटे हैं।

LEAVE A REPLY