गोरखपुर/भाषा उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के दुदही रेलवे स्टेशन के निकट आज सुबङ्घह मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर स्कूली बच्चों से भरी वैन के पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आ जाने से १३ बच्चों की मौत हो गई जबकि आठ अन्य घायल हो गए। रेलवे प्रवक्ता वेद प्रकाश ने बताया कि बच्चे डिवाइन पब्लिक स्कूल के छात्र थे। वैन सीवान से गोरखपुर जा रही पैसेंजर ट्रेन (५५०७५) की चपेट में आई।उन्होंने बताया कि वैन में १० साल की उम्र तक के करीब २५ बच्चे सवार थे जो स्कूल जा रहे थे। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुर्घटना स्थल पहुंचकर सारे पहलुओं की जानकारी ली। उन्होंने पडरौना के ङ्घजिला अस्पताल का निरीक्षण किया और गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज में भर्ती गंभीर रूप से घायल चार बच्चों और वैन चालक को भी देखने पहुंचे। योगी ने कहा, गोरखपुर के कमिश्नर (आयुक्त) को घटना की जांच का निर्देश दिया गया है और उनसे शाम तक रिपोर्ट देने को कहा गया है। योगी ने संवाददाताओं से कहा, आज प्रात: इस दुखद घटना के बारे में पता चला। पैसेंजर ट्रेन की चपेट में स्कूली वैन के आने से १३ बच्चों की दु:खद मौत हुई है। गंभीर रूप से घायल चार बच्चों और वैन चालक का गोरखपुर स्थित बीआरडी मेडिकल कालेज में इलाज चल रहा है। लापरवाही के लिए जो जिम्मेदार होगा, उसके खिलाफ सरकार कठोरतम कार्रवाई करेगी। उन्होंने कहा, मैं यहां परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करने आया हूं। प्रात: ही मैंने इस संबंध में रेलमंत्री से बातचीत की है। प्रथम दृष्टया इस मामले में वैन चालक की गलती सामने आ रही है। वह ईयर फोन लगाकर वैन चला रहा था। उसकी आयु को लेकर भी कुछ बातें सामने आ रही हैं। योगी ने मृत बच्चों के परिजनों को दो दो लाख रूपए की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है।द्धङ्गय्ह्र ·र्ैंर्‍ ब्रुंश्च झ्ब्घ्य्द्मउत्तर प्रदेश के गोरखपुर में ट्रेन की चपेट में एक स्कूली वैन के आने की घटना में मारे गए बच्चों की पहचान हो गई है। अधिकारी ने बताया कि मरने वाले बच्चों की शिनख्त मुस्कान, रागिनी, हरीओम, अतिउल्लाह, अनस नरो़ड, गोलू, मिराज, अरसद, कमरूल, तमन्ना, साजिदा, संतोष और रवि के रूप में की गई है।

LEAVE A REPLY