मोलकलमुरु/दक्षिण भारतलौह अयस्क खनन माफिया के सिरमौर जनार्दन रेड्डी ने सोमवार को राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दरामैया पर तीखा हमला बोला। उन्होंने सिद्दरामैया को ’’झूठा’’ करार देते हुए कहा कि उनके (सिद्दरामैया के) कारण उन्हें (रेड्डी को) चार वर्ष जेल की सजा काटनी प़डी। यह उन पर सिद्दरामैया द्वारा किया गया अत्याचार था। रेड्डी ने दावा किया कि सिद्दरामैया के ही इशारे पर उनके (जनार्दन रेड्डी के) खिलाफ लौह अयस्क के अवैध खनन का आरोप चस्पां कर दिया गया था। वहीं, तमाम आरोपों के बावजूद सिद्दरामैया को रेड्डी से एक भी रुपया उगाहने में सफलता नहीं मिली। रेड्डी सोमवार को यहां के हानगल गांव में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि सिद्दरामैया ने बिना किसी प्रमाण उन्हें जेल भेजकर उनके जीवन के चार कीमती वर्ष बर्बाद कर दिए्। जेल से छूटने के बाद भी सिद्दरामैया ने मुझे अपना निशाना बनाया। उन्होंने कहा, ’’मैंने सिद्दरामैया की अगुवाई वाली पूर्ववर्ती सरकार से कई बार सुरक्षा मुहैया करवाने की मांग की थी। पुलिस के कई वरिष्ठ अधिकारियों ने मुझे मेरी सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता करने के लिए आगाह किया था लेकिन तत्कालीन मुख्यमंत्री (सिद्दरामैया) ने मेरे अनुरोध पर कोई ध्यान नहीं दिया। मेरे परिवार के सदस्यों को भी किसी प्रकार की सुरक्षा नहीं दी गई। इस विषय में सरकार को लिखे गए मेरे पत्र पर भी ध्यान नहीं दिया गया।’’ रेड्डी ने कहा, ’’सिद्दरामैया के कारण मैंने अपने परिवार और अपने बच्चों से दूर जेल में चार वर्ष गुजारे। उस दौरान केंद्र में कांग्रेस की अगुवाई वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की सरकार थी, जबकि कर्नाटक में सिद्दरामैया की अगुवाई में यही पार्टी सत्तासीन थी। इसके बावजूद सिद्दरामैया मुझसे एक रुपए भी वसूलने में कामयाब क्यों नहीं हुए? क्या वह मुख्यमंत्री पद के लायक हैं? वह इस पद के योग्य नहीं हैं। उनकी सरकार में मंत्री रहे डीके शिवकुमार के ठिकानों पर आयकर अधिकारियों के छापों में करो़डों रुपए के कालेधन का पता लगा लेकिन उनके खिलाफ आज तक किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है।’’जनार्दन रेड्डी ने अवैध खनन के मामले में अपनी भ़डास निकालते हुए कहा कि उन्हें खनन माफिया ठहराने वाले हर रोज खनन घोटाले के मामले में राजकीय खजाने को हुए कथित नुकसान के अलग-अलग आंक़डे बताते हैं। रेड्डी ने कहा, ’’मेरे जेल जाने से पहले घोटाले का आंक़डा एक लाख करो़ड रुपए बताया जा रहा था। बाद में यह आधिकारिक रूप से २५ हजार करो़ड रुपए का हो गया और अब यह फिर से ३५ हजार करो़ड रुपए हो गया है। मेरे खिलाफ दर्ज आरोप पत्र में ४८० करो़ड रुपए के घोटाले का जिक्र था। इन सबका मतलब क्या है? क्या उन्हें मेरे घर से एक भी रुपया बरामद करने में सफलता मिली है? मेरे खिलाफ दर्ज करवाए गए सभी मामले फर्जी थे।’’उन्होंने सिद्दरामैया पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री ने उनके खिलाफ बल्लारी को लूटने का आरोप लगाया था। अब वह मेरे ही सहयोगी रहे आनंद सिंह और नागेंद्र की मदद से बल्लारी में लोकसभा उप चुनाव जीतने की उम्मीद संजोए हुए हैं। रेड्डी ने कहा कि बल्लारी का विकास भाजपा के कार्यकाल के दौरान हुआ था। यहां के लोगों ने भाजपा की भूमिका भुलाई नहीं है। वह हमेशा सही तरीके से सोचते हैं। उप चुनाव में वह निश्चित रूप से भाजपा प्रत्याशी जे. शांता को ही अपना पूर्ण समर्थन देंगे।

LEAVE A REPLY