terrorist attack in kashmir
terrorist attack in kashmir

श्रीनगर/दक्षिण भारत। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार को बड़ा आतंकी हमला हुआ। यहां श्रीनगर-जम्मू हाइवे पर अवंतीपोरा स्थित गोरीपोरा इलाके में आतंकियों ने आईईडी धमाका किया, जिससे सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए। वहीं 40 से ज्यादा जवानों के घायल होने के समाचार हैं। जैश-ए-मोहम्मद ने इस आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी ली है। घायल जवानों को श्रीनगर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना के बाद इस इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया गया। यह साल 2016 के उरी हमले के बाद सुरक्षाबलों पर दूसरा बड़ा आतंकी हमला है।

यह हमला दोपहर बाद करीब सवा तीन बजे हुआ जब सीआरपीएफ जवानों का काफिला इस इलाके से गुजर रहा था। आतंकियों ने कार में आईईडी लगाकर सीआरपीएफ के वाहनों को निशाना बनाया। इसके अलावा आतंकियों की ओर से गोलीबारी की गई। घटनास्थल की तस्वीरों में एक वाहन पर गोलियों के निशान देखे गए। आतंकियों ने सुरक्षाबलों के दो वाहनों को निशाना बनाया है। जिस काफिले पर हमला किया, वह जम्मू से श्रीनगर की ओर जा रहा था। उसमें करीब 2,500 जवान थे। काफिले में सीआरपीएफ की 70 से ज्यादा गाड़ियां थीं। सूचना मिलते ही सेना और सीआरपीएफ की टीमें मौके पर भेजी गईं। आतंकी हमले के बाद दक्षिण कश्मीर के कई इलाकों में सुरक्षा एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है।

terrorist attack on crpf
terrorist attack on crpf

एक रिपोर्ट के अनुसार, इस इलाके में आतंकी घात लगाकर बैठे थे। जब सीआरपीएफ का काफिला यहां से गुजरा तो विस्फोटकों से भरी एक गाड़ी लेकर आए जैश के आतंकी ने काफिले की बस को टक्कर मार दी। इसके बाद अन्य आतंकियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। हमले में घायल जवानों को श्रीनगर के अस्पताल ले जाया जा रहा था कि दर्जनभर जवानों ने इस दौरान दम तोड़ दिया। अस्पताल में भर्ती कई जवान गंभीर रूप से घायल हैं। जवानों का इलाज जारी है। वहीं सेना ने जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर यातायात बंद कर अवंतीपोरा और नजदीकी इलाकों में बड़े स्तर पर तलाशी अभियान चलाया है। साथ ही कुलगाम, पुलवामा, शोपियां और श्रीनगर जिलों में हाई अलर्ट घोषित कर आतंकियों की तलाश की जा रही है।

सीआरपीएफ जवानों पर आत्मघाती हमले में आतंकी आदिल अहमद उर्फ वकास कमांडो का नाम सामने आया है। पुलवामा के गुंडई बाग के निवासी आदिल ने इस हमले का षड्यंत्र रचा था। जो जवान इस हमले में शहीद और जख्मी हुए, वे सीआरपीएफ की 54वीं बटालियन के हैं। कश्मीर घाटी में सुरक्षाबलों की लगातार कार्रवाई और अभियानों में कामयाबी से आतंकी बौखलाए हुए हैं।

LEAVE A REPLY