uyghur muslims in china
uyghur muslims in china

बीजिंग। पाकिस्तान से हमदर्दी का दावा करने वाले चीन की असल मंशा क्या है, इसकी हकीकत उसके शिंजियांग प्रांत की एक रिपोर्ट बयान करती है। यह चीन का मुस्लिम बहुल इलाका है जहां से आए दिन सख्त नियम लागू करने की खबरें प्रकाशित होती रहती हैं। अब मालूम हुआ है कि शिंजियांग में 200 से ज्यादा मुस्लिम व्यापारियों की पत्नियां लापता हो गई हैं। इस संबंध में जब उन्होंने प्रशासन से संपर्क कर शिकायत की तो कोई मदद नहीं की गई।

यहां उन्हें बताया गया कि इन महिलाओं को ‘शैक्षणिक केंद्र’ में भर्ती कराया गया है। बता दें कि चीन के ये कथित ‘शैक्षणिक केंद्र’ काफी विवादों में रहे हैं। पहले यहां उइगर मुस्लिम पुरुषों को जबरन भर्ती कराया जाता था और उन पर सरकार की विचारधारा थोपने की कोशिश की जाती थी। यही नहीं, उन्हें धार्मिक कार्यों से दूर रहने के लिए कहा जाता था। ऐसे लोगों को चीन की कम्युनिस्ट पार्टी का साहित्य पढ़ाया जाता और सरकारी विचारधारा को स्वीकार करने का दबाव डाला जाता था। इन शिविरों में काफी लोगों का उत्पीड़न होता था।

अब चीन मुस्लिम महिलाओं को इन शिविरों में भर्ती कर रहा है। अचानक लापता होने की वजह से उनके पति काफी परेशान हैं। शिंजियांग की कई मुस्लिम महिलाओं का ससुराल पाकिस्तान में है। पाकिस्तानी मीडिया और वहां की सरकार आए दिन चीन का गुणगान करती रहती हैं, लेकिन जब शिंजियांग में उक्त घटना हुई तो कोई उनकी मदद के लिए आगे नहीं आया। इस वजह से कई पाकिस्तानी ना​गरिक अपनी पत्नियों के लिए चिंतित हैं।

इन्हीं में से एक हैं चौधरी जावेद अट्टा। उनकी पत्नी अमीना मानजी एक साल से लापता हैं। उन्होंने काफी तलाश की लेकिन कामयाबी नहीं मिली। अब वे दोबारा पाकिस्तान आए हैं ताकि अपना वीजा रिन्यू कराएं और फिर चीन जाकर पत्नी की तलाश करें। जावेद की अपनी पत्नी से आखिरी बात अगस्त 2017 में हुई थी। उस वक्त तक उनकी शादी को 14 साल हो चुके थे। अमीना मानजी ने उस समय आशंका जताई थी कि यदि जावेद उनसे मिलने आएंगे तो चीनी अधिकारी उन्हें शिविरों में भेज देंगे।

जावेद ने कहा कि चीनी अधिकारी इन शिविरों को स्कूल बताते हैं, जबकि हकीकत इससे कहीं अलग है। ये जेल हैं। जावेद की तरह काफी लोग हैं जो चीन के दफ्तरों से लेकर सड़कों तक पर भटक रहे हैं ताकि अपने जीवनसाथी की एक झलक पा सकें। इसके बावजूद न तो उनकी चीन में कहीं सुनवाई है और न ही पाकिस्तान के हुक्मरान किसी मदद के लिए तैयार हैं।

ये भी पढ़िए:
– भारतीय किशोर का दुबई में कमाल, 13 साल की उम्र में बनाई सॉफ्टवेयर कंपनी!
– गूगल पर ‘भिखारी’ लिखकर सर्च करने से आ रही इमरान की तस्वीर, पाक में विवाद
– यहां बीच सड़क पर होने लगी डॉलर की बरसात, लूटने के लिए टूट पड़े लोग!
– चाय-समोसे की यह तस्वीर देख याद आया ‘फूल और कांटे’ का सीन, अजय भी नहीं रोक पाए हंसी

LEAVE A REPLY