चेन्नई/दक्षिण भारतसाध्वीश्री काव्यलताजी के सान्निध्य में मंगलवार को तेरापंथ सभा किलपॉक के तत्वावधान में आचार्यश्री महाश्रमणजी का ५७वां जन्मोत्सव मनाया गया। इस मौके पर साध्वीश्री ने कहा कि आचार्यश्री चहुंमुखी व्यक्तित्व के धनी हैं। उनकी आखों से अमृत की वर्षा होती है। उनके दिल में करुणा का सागर प्रवाहित होता है। वे अहिंसा यात्रा द्वारा सद्भावना, नैतिकता और व्यसन मुक्ति का अभियान लेकर लाखों किलोमीटर की यात्रा कर मानव को मानवता का पाठ प़ढा रहे हैं। व्यसन मुक्ति मिशन से देश में स्वस्थ एवं पवित्रता के वातावरण का निर्माण कर रहे हैं। ऐसे महान संत को उनके जन्मोत्सव पर हार्दिक शुभकामनाएं। साध्वीश्री सुरभिप्रभाजी ने गीत के माध्यम से शुभकामनाएं दी। महिला मंडल की सदस्याओं ने भी अभिनंदन गीत गाया। साध्वीश्री ज्योतियशाजी ने कार्यक्रम का संचालन किया।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY