नई दिल्ली। श्रीलंका के खिलाफ बुधवार को यहां फिरोजशाह कोटला पर तीसरे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट में ड्रा के साथ ही भारत ने तीन मैचों की श्रृंखला १-० से नाम करते हुए लगातार नौ टेस्ट श्रृंखला जीतने के ऑस्ट्रेलिया के रिकार्ड की बराबरी की। भारत ने ये सभी नौ श्रृंखलाएं विराट कोहली की अगुआई में जीती हैं और उनके पूर्णकालिक कप्तान बनने के बाद से टीम ने कोई सीरीज नहीं गंवाई है। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के नाम पर लगातार नौ श्रृंखला जीतने का रिकार्ड दर्ज था। उसने यह कारनामा २००५ से २००८ के बीच किया। भारत के विजय अभियान की शुरुआत २०१५ में श्रीलंका की सरजमीं पर हुई जब कोहली की अगुआई में टीम ने तीन मैचों की श्रृंखला २-१ से जीती और तब से भारत की जीत का क्रम जारी है। टीम इंडिया ने इस विजयी क्रम के दौरान स्वदेश में छह, श्रीलंका में दो और वेस्टइंडीज में एक श्रृंखला जीती। इस दौरान भारत ने ३० मैचों में से २१ मैचों में जीत दर्ज की जबकि सिर्फ दो मैचों में उसे हार झेलनी प़डी। टीम इंडिया को ये हार श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया के हाथों मिली।भारत ने पिछली टेस्ट श्रृंखला २०१४-१५ में ऑस्ट्रेलिया की सरजमीं गंवाई थी। तब भारत को चार मैचों की श्रृंखला में २-० से हार का सामना करना प़डा था। इसी सीरीज के दौरान भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहा था।इस ड्रा के साथ कोटला पर भारत ने अपना अजेय अभियान जारी रखा। टीम इंडिया को इस मैदान पर पिछली हार का सामना ३० बरस से भी अधिक समय पहले नवंबर १९८७ में करना प़डा था जब वेस्टइंडीज ने उसे पांच विकेट से शिकस्त दी थी। इस मैच में वेस्टइंडीज ने चौथी पारी में पांच विकेट पर २७६ रन बनाए थे जो इससे पहले भारतीय सरजमीं पर चौथी पारी में बनाया गया सर्वोच्च स्कोर था। श्रीलंका ने पांच विकेट पर २९९ रन बनाकर इसे तो़ड दिया।

LEAVE A REPLY