नई दिल्ली। किदाम्बी श्रीकांत का चार साल पहले मस्तिष्क ज्वर के कारण राष्ट्रमंडल खेलों में पदार्पण अच्छा नहीं रहा था लेकिन अब जबकि वह अच्छी फार्म में चल रहे हैं तब इस बैडमिंटन खिला़डी की निगाह गोल्ड कोस्ट में अगले महीने होने वाले खेलों में पदक जीतने पर लगी हुई हैं। ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों से कुछ सप्ताह पहले श्रीकांत बीमार प़ड गये थे। उन्हें गोपीचंद अकादमी में बाथरूम के फर्श पर बेहोश पाया गया था। बाद में पता चला कि उन्हें मस्तिष्क ज्वर है। उन्हें एक सप्ताह तक आईसीयू में रहना प़डा था।लेकिन वह अब बीती बात है और अब श्रीकांत देश के सर्वश्रेष्ठ खिलाि़डयों में से एक हैं। उनके नाम पर चार खिताब हैं और उन्होंने पदमश्री सहित कई प्रतिष्ठित पुरस्कार भी हासिल किये। उन्हें अब गोल्ड कोस्ट में स्वर्ण पदक का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। श्रीकांत ने २०१४ की घटना को याद करते हुए कहा, वह किसी वाइरस की वजह से हुआ था जिसका मुझे नाम भी याद नहीं। कोई भी मुझे दिन की घटना के बारे में नहीं बताना चाहता और मुझे भी कुछ याद नहीं है। उन्होंने कहा, मैं अच्छा खेल रहा था इसलिए मैंने वापसी की और राष्ट्रमंडल खेलों में खेला लेकिन क्वार्टर फाइनल में सिंगापुर के खिला़डी से हार गया। श्रीकांत ने कहा, अब चार साल बाद मुझे लगता है कि पिछले एक साल में मैंने जो अनुभव हासिल किया उससे मैं आत्मविश्वास से भरा हूं इसलिए यह अलग तरह का अनुभव होगा। निश्चित तौर पर राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतना मेरी प्राथमिकता है। उन्होंने कहा, राष्ट्रमंडल खेल मेरी प्राथमिकता है। विश्व का नंबर एक खिला़डी बनने से अधिक महत्वपूर्ण पदक जीतना है। यह मेरा इस वर्ष का एक लक्ष्य है। पारूपल्ली कश्यप ने ग्लास्गो में राष्ट्रमंडल खेलों का स्वर्ण पदक जीतकर भारत को ३२ साल बाद पुरूष एकल में खिताब दिलाया था। अब श्रीकांत पर देश के करो़डों लोगों की उम्मीदें टिकी रहेंगी। कश्यप से पहले केवल प्रकाश पादुकोण (१९७८) और सैयद मोदी (१९८२) ही इन खेलों में बैडमिंटन पुरूष एकल का स्वर्ण जीत पाये थे। श्रीकांत ने कहा, पिछली बार हमने अच्छी संख्या में पदक जीते थे और अब हम चार साल पहले की तुलना में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं और हमारी अधिक पदक जीतने की अच्छी संभावना है।

LEAVE A REPLY