currency notes india
currency notes india

नई दिल्ली/वार्ता। अखिल भारतीय व्यापारी संघ (कैट) ने करेंसी नोट से बीमारी होने की मीडिया में छपी शोध रिपोर्टों का हवाला देते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली को पत्र लिखकर उनसे इस मुद्दे की जांच कराने का आग्रह किया है। कैट ने जेटली को रविवार को लिखे अपने पत्र में ऐसी शोध रिपोर्टों का हवाला दिया है, जिनके मुताबिक करेंसी नोट कई तरह की बीमारियों को न्यौता देते हैं।

कैट का कहना है कि वित्त मंत्री को इस मामले की जांच कराकर सही तस्वीर सामने लानी चाहिए और अगर ये शोध रिपोर्ट सही साबित होते हैं, तो इन बीमारियों से बचाव के उपाय किए जाने चाहिए। कैट ने इस पत्र की प्रति केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी.नड्डा और केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को भी भेजी है और उनसे इस मामले में दखल देने का आग्रह किया है।

कैट ने जिन शोध रिपोर्ट का उल्लेख किया है, उनमें ख़ास तौर पर कांउन्सिल ऑ़फ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च के अंतर्गत काम करने वाले संस्थान इंस्टिट्यूट ऑ़फ गेनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी की शोध रिपोर्ट का जिक्र है। इस शोध के अनुसार, करेंसी नोटों में ऐसे 78 प्रकार के बैक्टीरिया पाए गए हैं, जो बीमारियां फैलाते हैं।

हालांकि ये सिर्फ एक ही नोट में नहीं पाए गए। अधिकांश नोटों में पेट खराब होने, टी.बी.और अल्सर जैसी अन्य बीमारियां फैलाने के लक्षण मिले हैं। शोध में कहा गया है कि करेंसी नोटों से बीमारियां फैलने का खतरा सदा बना रहता है।

इसी प्रकार जर्नल ऑ़फ करंट माइक्रोबायोलॉजी एंड एप्लाइड साइंस ने तमिलनाडु के तिरुनवेली मेडिकल कॉलेज में वर्ष 2016 में किए अपने एक शोध में पाया था कि उन्होंने जिन 120 करेंसी नोट पर शोध किया उनमें से 86.4 प्रतिशत नोट कई प्रकार की बीमारियां फैलाने वाले थे। ये नोट डॉक्टर्स, बैंक, स्थानीय बा़जार, कसाई, विद्यार्थी एंड गृहणियों से लिए गए थे। डॉक्टरों से लिए गए नोटों में मूत्र संबंधी, सांस लेने में परेशानी, सेप्टिसीमिया, स्किन इन्फेक्शन, मेनिनजाइटिस आदि बीमारी फैलाने के कीटाणु भी थे।

ये भी पढ़िए:
– यहां आज भी राधा संग आते हैं श्रीकृष्ण, जिसने भी देखना चाहा, वह हो गया पागल!
– जब बेंगलूरु में कथित ‘चुड़ैल’ के डर से दरवाजे पर लिखते थे यह बात, इसी से जुड़ी ‘स्त्री’ की कहानी
– पाकिस्तान रेंजर्स ने ​अखबार में विज्ञापन छापकर किया हिंदुओं का अपमान! खूब हो रहा विरोध
– प्रेमिका के साथ छुट्टियां मनाने गए थे मंत्री, एक भूल पड़ी भारी, आते ही देना पड़ा इस्तीफा!

LEAVE A REPLY