बेंगलूरु/ दक्षिण भारतशहर पुलिस की अपराध शाखा (सीसीबी) पुलिस ने पांच लोगों के एक ऐसे गिरोह का भंडाफो़ड किया है, जो मतदाता सूची में लोगों के नाम फर्जी तरीके से दर्ज करवाने में लिप्त था। इस गिरोह के आरोपी मतदाताओं को नकद राशि के बदले में फर्जी मतदाता परिचय पत्र भी मुहैया करवाया करता था। पुलिस ने गुरुवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में इस गिरोह के आरोपियों को गिरफ्तार किए जानो की जानकारी दी। दासरहल्ली क्षेत्र की सहायक चुनाव अधिकारी (एईओ) नागरत्ना और हारोहल्ली के एईओ अनंतरामैया की शिकायतों के आधार पर पुलिस ने इस गिरोह के सदस्यों को धर दबोचा है। अधिकारियों ने पुलिस को बताया था कि कुछ लोग मतदाता सूची में अवैध तरीके से मतदाताओं के नाम दर्ज कर रहे हैं। आरोपियों ने मतदाताओं की ओर से फॉर्म-६ भी दाखिल किया था, हालांकि यह फॉर्म एईओ कार्यालयों में स्वीकृत नहीं किए गए थे। पुलिस ने बताया कि इस गिरोह के सदस्यों ने कथित रूप से दासरहल्ली और यशवंतपुर विधानसभा क्षेत्रों में बृहत बेंगलूरु महानगर पालिके (बीबीएमपी) के सहायक राजस्व अधिकारी की ईआरएमएस वेबसाइट हैक कर वोटर आईडी कार्ड बनाना और बेचना शुरू कर दिया था। प्रत्येक वोटर आईडी कार्ड के लिए यह लोग संबंधित मतदाताओं से ९०० से १ हजार रुपए तक वसूला करते थे। पुलिस ने दबोचे गए आरोपियों की पहचान नवीन कुमार, एन सचिन, देवराज, संजयकुमार शिलावंत और एस करिसिद्देश्वर के नाम से की है। इनके पास से पुलिस ने कंप्यूटर सिस्टम, पेन ड्राइव, प्रिंट किए हुए रिक्त वोटर आईडी जब्त किए हैं। पीन्या पुलिस ने इनके खिलाफ मामला दर्ज कर जांच प्रक्रिया शुरू कर दी है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY