titli cyclone
titli cyclone

भुवनेश्वर। चक्रवाती तूफान ‘तितली’ ओडिशा पहुंच गया है। इसकी रफ्तार बढ़ गई है। ओडिशा के तटीय इलाकों में हवाओं की रफ्तार 126 किमी प्रति घंटा तक जा पहुंची है। तूफान प्रभावित इलाके में कई पेड़ और खंभे उखड़ गए हैं। तूफान की चेतावनी मिलने के साथ ही प्रशासन ने इससे निपटने की तैयारी कर ली थी। ओडिशा के इन जिलों में एनडीआरएफ की टीमें तैनात हैं। 18 जिलों में रेड अलर्ट घोषित किया गया है।

इसके अलावा आंध प्रदेश और पश्चिम बंगाल के भी कुछ इलाके इसकी चपेट में आने की आशंका के चलते वहां रेड अलर्ट जारी किया गया है। जानकारी के अनुसार, अब तक करीब 3 लाख लोगों को तूफान प्रभावित इलाकों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है।

तूफान के कारण जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। ओडिशा सरकार ने 11 और 12 अक्टूबर को स्कूल—कॉलेज बंद रखने का आदेश जारी किया है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक की थी और वे लगातार हालात पर नजर बनाए हुए हैं। बता दें कि ‘तितली’ तूफान के कारण रेलों का आवागमन भी बाधित हुआ है। इस इलाके से गुजरने वाली कई रेलों के रूट बदले गए हैं या उन्हें पहले ही रोका गया है। इसलिए यदि आप रेलयात्रा कर रहे हैं तो इस बात का खास ध्यान रखें।

‘तितली’ तूफान की वजह से आसपास के इलाकों की मौसमी परिस्थितियों में भी परिवर्तन आए हैं। यहां तेज हवाओं के साथ बारिश होने की संभावना जताई गई है। इन इलाकों में मछुआरों को कहा गया है कि वे 12 अक्टूबर तक समुद्र का रुख न करें। अधिकारियों ने कहा है कि आगामी गुरुवार तड़के तक ‘तितली’ का गंभीर खतरा बरकरार है। बारिश और तेज हवाओं की वजह से कई स्थानों पर भूस्खलन की आशंका जताई गई है। प्रशासन इन हालात से निपटने के लिए जुटा हुआ है। साथ ही मौसम विभाग भी इस पर लगातार जानकारी दे रहा है। यदि आप इन क्षेत्रों में हैं तो मौसम विभाग और प्रशासन के संपर्क में रहें। अफवाहों पर ध्यान न दें।

ये भी पढ़िए:
– पायलट बनते ही युवक ने निभाया वादा, गांव के 22 बुजुर्गों को कराया हवाई सफर
– बांग्लादेश: 2004 के ग्रेनेड कांड में दो पूर्व मंत्रियों समेत 19 लोगों को सजा-ए-मौत
– खूबसूरत लड़कियों के नाम से फेसबुक आईडी बनाकर पाक की आईएसआई ऐसे करवा रही जासूसी
– गरीबी में दिन काट रहे मजदूर की खुली किस्मत, खदान से मिला बेशकीमती हीरा

LEAVE A REPLY