violence in bulandshahar
violence in bulandshahar

बुलंदशहर। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में कथित गोहत्या के शक में बवाल हो गया। इसमें एक इंस्पेक्टर सहित दो लोगों की मौत हो गई। बुलंदशहर के स्याना गांव में गुस्साए लोगों ने पुलिस चौकी पर हमला कर दिया। वहां उन्होंने जमकर तोड़फोड़ की। जानकारी के अनुसार, सोमवार को तीन गांव के करीब 400 लोग एक कथित अवैध बूचड़खाने का विरोध कर रहे थे। बाद में ये लोग उग्र हो गए।

पुलिस ने इनकी समझाइश की, लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ। भड़के लोगों ने हिंसा शुरू कर दी। देखते ही देखते यहां हिंसा तेज हो गई। बचाव के लिए पुलिस ने फायर किया। वहीं ग्रामीणों ने पुलिस पर खूब पथराव किया। इस दौरान इंस्पेक्टर के सुबोध कुमार सिंह के सिर पर पत्थर लगा। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई। इंस्पेक्टर का ताल्लुक एटा जिले से था।

inspector subodh kumar singh
inspector subodh kumar singh

घटनास्थल पर भड़के लोगों ने भारी उत्पात मचाया। उन्होंने कई वाहनों में आग लगा दी और तोड़फोड़ की। हालांकि पुलिस की कार्रवाई में कई लोगों के घायल होने के समाचार हैं। सूचना मिलने के बाद मेरठ के एडीजी मौके पर पहुंचे। हालात के मद्देनजर यहां भारी पुलिसबल तैनात किया गया है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, कथित गोहत्या के शक में स्थानीय लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। पुलिस ने भीड़ को हटाने के लिए समझाइश की थी, लेकिन भीड़ के तेवर तीखे थे। बाद में भीड़ को तितर-बितर करने के लिए गोली चलाई। इससे भीड़ उग्र हो गई। इस दौरान एक युवक सुमित गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे मेरठ के अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। भड़की भीड़ ने चौकी को निशाना बनाया और वहां तोड़फोड़ कर वाहन में आग लगा दी। चौकी की तस्वीरें भी वायरल हुई हैं।

बताया गया है कि सुमित चिंगरावती गांव का निवासी था। वह बीए का छात्र था। उसके परिजनों ने बताया कि वह अपने किसी साथी को बाइक पर छोड़ने जा रहा था। उक्त विवाद से उसका कोई संबंध नहीं था, लेकिन उसे गोली मार दी गई। अस्पताल के मुताबिक, सुमित के सीने में गोली लगी थी।

आगजनी के शिकार वाहनों में पुलिस की एक वैन भी है। उग्र भीड़ ने पुलिस पर जमकर पथराव भी किया। हिंसा में एक अन्य सिपाही के घायल होने के समाचार हैं। उनकी स्थिति गंभीर बताई गई है। घटना के बाद आसपास के इलाके में तनाव पसरा है। मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है। एडीजी आनंद कुमार ने बताया कि युवक को किसने गोली मारी, इसकी जांच हो रही है।

एडीजी ने कहा कि यह जांच दो अलग मामलों में होगी। पहली जांच गोवंश के अवशेष और लोगों के उग्र होने पर होगी। दूसरी जांच इंस्पेक्टर की मौत मामले में की जाएगी। घटना के कुछ वीडियो भी ​सामने आए हैं। उनसे उपद्रवियों की पहचान की जाएगी। बता दें कि सोमवार को बुलंदशहर में मुस्लिम समाज का इज्तमा कार्यक्रम चल रहा था, जिसमें काफी तादाद में लोग इकट्ठे हुए थे। घटना के बाद विभिन्न संगठनों से जुड़े लोग सोशल मीडिया पर यह अपील करते दिखे कि शांति बनाए रखें और किसी किस्म की अफवाह न फैलाएं।

ऐसे चला घटनाक्रम
– सुबह करीब 10.30 बजे पुलिस को सूचना मिली कि मऊ के खेतों में कथित गोवंश के अवशेष पाए गए हैं। इंस्पेक्टर सुबोध कुमार घटनास्थल पहुंचे। उत्तेजित लोगों को समझाया।
– कुछ लोग मान गए। इसी बीच उत्तेजित कुछ लोगों ने अवशेष ट्रैक्टर-ट्रॉली में भरे और स्याना-गढ़ सड़क रोक दी। पुलिस ने फिर समझाइश की। भीड़ नहीं मानी, मामला बिगड़ने लगा। भीड़ ने चौकी पर पथराव शुरू किया, वाहनों में आग लगाई। जवाब में पुलिस ने सख्ती बरती। आंसू गैस के गोले छोड़े।
– इंस्पेक्टर के सिर में चोट लगी। उनका काफी खून बह गया। एक युवक को भी गोली लगी। पूरा घटनाक्रम दोपहर 12 से 1.30 बजे के बीच हुआ। पुलिस ने एफआईआर दर्ज की। दो बजे तक हालात काबू में आए। भारी पुलिसबल तैनात किया गया।

ये भी पढ़िए:
– कांग्रेस पॉकेटमारों की जमात, जनेऊधारी राहुल कभी नहीं समझेंगे दर्द: ओवैसी
– आतंकी संगठनों की चाल, कश्मीरी युवाओं को फंसाने के लिए ‘हनी ट्रैप’ का बिछा रहे जाल
– फिर विवादों में घिरे सिद्धू, वायरल वीडियो में बोले- ‘पाकिस्तान हमेशा करता है पहल’
– यूट्यूब पर हिट हुआ नोरा फतेही के ‘दिलबर’ सॉन्ग का अरबी वर्जन, यहां देखें वीडियो

LEAVE A REPLY