akhilesh yadav
akhilesh yadav

लखनऊ/दक्षिण भारत। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लखनऊ हवाईअड्डे पर रोकने के मामले में विवाद बढ़ता जा रहा है। अखिलेश इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्र संघ के शपथग्रहण कार्यक्रम में शिरकत करने जा रहे थे। इसके बाद अखिलेश ने ट्वीट कर विरोध जताया। उन्होंने कहा कि उप्र की भाजपा सराकर उन्हें कार्यक्रम में जाने से रोक रही है। मामले की सूचना पर समाजवादी पार्टी के कई कार्यकर्ता हवाईअड्डे के बाहर इकट्ठे होने लगे और नारेबाजी की।

वहीं, उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रयागराज में अराजकता न फैले, इसलिए अखिलेश को रोका गया है। बता दें कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ के वार्ष‍िकोत्सव कार्यक्रम को लेकर तनावपूर्ण माहौल था। वहां समाजवादी छात्र सभा ने अखिलेश को बतौर मुख्य अतिथि बुलाया ​था। विश्वविद्यालय ने कार्यक्रम पर रोक लगा दी। छात्र संघ नेताओं के बीच तनावपूर्ण स्थिति के कारण वहां पहले ही पुलिसबल तैनात कर दिया गया।

अखिलेश यादव ने ट्वीट किया कि एक छात्र नेता के शपथ ग्रहण कार्यक्रम से सरकार इतनी डर रही है कि मुझे लखनऊ हवाईअड्डे पर रोका जा रहा है। उन्होंने कहा कि बिना किसी लिखित आदेश के मुझे एयरपोर्ट पर रोका गया। पूछने पर भी स्थिति साफ करने में अधिकारी विफल रहे। छात्र संघ कार्यक्रम में जाने से रोकना का एक मात्र मकसद युवाओं के बीच समाजवादी विचारों और आवाज को दबाना है। अखिलेश ने कहा कि शासन-प्रशासन ने हमें इलाहाबाद विश्वविद्यालय में जाने से रोकने का षड्यंत्र रचा है, पर वो हमें छात्रों से मिलने से नहीं रोक सकते।

इस मामले पर मायावती ने भी ट्वीट किया कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को इलाहाबाद नहीं जाने देने के लिए उन्हें लखनऊ एयरपोर्ट पर ही रोक लेने की घटना अति-निन्दनीय है। उन्होंने इसे प्रदेश सरकार की तानाशाही बताया है।

योगी आदित्यनाथ ने प्रयागराज कुंभ का जिक्र करते हुए कहा कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अराजकता न हो, इसलिए अखिलेश को रोका गया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन और प्रयागराज जिला प्रशासन ने भी यह मांग की थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सपा अराजकता फैलाने के लिए जानी जाती है। यदि अखिलेश जाते तो विश्वविद्यालय में बवाल होता। उन्होंने बताया कि छात्र गुटों में हिंसा की आशंका के कारण उन्हें रोका गया।

दूसरी ओर, सपा नेताओं ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में प्रदर्शन किया। इस दौरान बदायूं सांसद धर्मेंद्र यादव को चोटें आईं। एक प्रेसवार्ता में अखिलेश यादव ने सरकार की मंशा पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि सरकार का मन साफ नहीं था, इसीलिए वहां जाने की अनुमति नहीं दी गई।

LEAVE A REPLY