george bush senior

वॉशिंगटन। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज एचडब्ल्यू बुश का निधन हो गया। वे 94 साल के थे। काफी समय से उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं था। उन्हें रक्त संक्रमण संबंधी रोग था। तबीयत बिगड़ने के बाद उनका इलाज जारी था। उनके बेटे जॉर्ज डब्ल्यू बुश भी अमेरिका के राष्ट्रपति रहे हैं। जूनियर बुश की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जेब, नील, मार्विन, डोरो और मैं बहुत गमगीन हैं क्योंकि 94 उल्लेखनीय वर्षों के बाद हमारे पिता अब दुनिया में नहीं रहे। परिवार ने बताया कि वे उच्चतम चरित्र के मालिक और सर्वश्रेष्ठ पिता थे। उन्होंने शुक्रवार को टेक्सास के ह्यूस्टन में आखिरी सांस ली।

सीआईए से व्हाइट हाउस तक
सीनियर बुश का जन्म 12 जून, 1924 को मैसाचुसेट्स के मिल्टन में हुआ था। निधन के समय तक उनका नाम अपने देश के सबसे ज्यादा उम्र वाले पूर्व राष्ट्रपति के तौर पर शुमार था। सीनियर बुश राजनीति में आने से पहले खुफिया सेवा में रहे थे। वे अमेरिका की मशहूर खुफिया एजेंसी सीआईए के प्रमुख थे। उन्होंने नौसेना में नौकरी भी की थी। इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका के राजदूत की भूमिका निभाई थी।

सीनियर बुश वर्ष 1989 से 1993 तक अमेरिका के राष्ट्रपति रहे थे। वे अपने देश के 41वें राष्ट्रपति थे। उनका ताल्लुक रिपब्लिकन पार्टी से था, जिसके ट्रंप भी सदस्य हैं। सीनियर बुश 1981 से 1989 तक अमेरिका के उपराष्ट्रपति रहे थे। विदेश नीति और खुफिया अभियानों पर उनकी जबरदस्त पकड़ बताई जाती थी। सोवियत संघ से शीत युद्ध और उसके बिखराव में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही थी।

सद्दाम से टकराव
इराक के पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन के साथ उनका टकराव रहा। उनके आदेश पर ही 1991 में संयुक्त सेनाओं ने इराकी फौजों पर हमले किए थे। बाद में सीनियर बुश के बेटे जॉर्ज डब्ल्यू बुश का भी सद्दाम से टकराव रहा और उन्होंने इराक में फौजें भेजीं, जिसके बाद सद्दाम को फांसी दे दी गई। सीनियर बुश ने कई मोर्चों पर अमेरिका की धाक कायम की थी लेकिन इसके बावजूद देश में उनकी लोकप्रियता में कमी आई। उन्हें दूसरा कार्यकाल नहीं मिला। इसकी सबसे बड़ी वजह देश की कमजोर अर्थव्यवस्था को माना गया। वर्ष 1992 के चुनावों में डेमोक्रेट उम्मीदवार बिल क्लिंटन जीत गए।

सीनियर बुश के देहांत पर देश-विदेश के कई राजनेताओं ने शोक व्यक्त किया है। पूर्व राष्ट्रप​ति बराक ओबामा ने उन्हें देशभक्त और विनम्र सेवक बताया है। बता दें ​कि इसी साल 17 अप्रेल को सीनियर बुश की पत्नी बारबरा बुश का 92 साल की उम्र में देहांत हो गया था। बारबरा के बारे में मशहूर था कि उन्होंने अपने जीवन में पति और बेटे दोनों को देश का राष्ट्रपति बनते देखा। अमेरिका में ऐसा संयोग अब तक शायद ही किसी महिला के जीवन में आया हो।

LEAVE A REPLY