अमित शाह ने कहा है कि उन्हें इजाजत मिले या न मिले, वे बंगाल जरूर जाएंगे। उन्होंने बताया कि अगर ममता बनर्जी उन्हें गिरफ्तार करना चाहती हैं तो कर सकती हैं।

नई दिल्ली। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि वे 11 अगस्त को पश्चिम बंगाल जाएंगे। चर्चा है कि वे वहां रैली को संबोधित करेंगे। हालांकि इस संबंध में अभी स्थिति स्पष्ट नहीं हुई है। चूंकि इन दिनों राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) मामला बेहद चर्चा में है। यह असम में भारतीय नागरिकों की पहचान की दिशा में एक मसौदा है, जिसमें 40 लाख लोगों के नाम नहीं आए।

इसके बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर आक्रामक रुख दिखाया। उन्होंने बयान दिया था कि इससे देश में गृह युद्ध जैसी स्थिति हो सकती है और खूनखराबे की नौबत आ सकती है। ममता बनर्जी का भाजपा से सीधे टकराव के बाद अमित शाह का बंगाल दौरा काफी मायने रखता है। माना जा रहा है कि शाह एनआरसी और बांग्लादेशी घुसपैठियों का मुद्दा उठा सकते हैं।

दौरे से पहले ही यह काफी चर्चा में है। इस पर अमित शाह ने कहा है कि उन्हें इजाजत मिले या न मिले, वे बंगाल जरूर जाएंगे। उन्होंने बताया कि अगर ममता बनर्जी उन्हें गिरफ्तार करना चाहती हैं तो कर सकती हैं। शाह के प्रस्तावित कार्यक्रम का आयोजन भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ता कर रहे हैं। संगठन की ओर से कहा गया है कि करीब दो लाख लोग अमित शाह का भाषण सुनने आएंगे।

चर्चा है कि एनआरसी के बहाने भाजपा ने उस मुद्दे को उजागर कर दिया है जिसकी चर्चा स्थानीय स्तर पर पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर में होती रही है। अब पूरी संभावना है कि यह एक राष्ट्रीय मुद्दा बन जाएगा। पश्चिम बंगाल में आगामी लोकसभा, विधानसभा और स्थानीय निकाय चुनावों में बांग्लादेशी घुसपैठियों का मुद्दा चर्चा में रहे, तो आश्चर्य नहीं होना चाहिए।

ये भी पढ़ें:
– विधायक के विवादित बोल- ‘अनुच्छेद 370 हटा तो कश्मीर में नहीं रहेगा तिरंगे का नामोनिशान’
– क्या मुलायम के खास रहे अमर सिंह आज़मगढ़ से लड़ेंगे उनके खिलाफ चुनाव?
– क्या नागरिक रजिस्टर पर ममता के ‘गृहयुद्ध’ वाले बयान से कांग्रेस को हो सकता है नुकसान?

LEAVE A REPLY