artificial moon mission china
artificial moon mission china

बीजिंग। अंतरिक्ष से लेकर समुद्र तक चीन नित नए प्रयोग कर रहा है। दुनिया में अपना वर्चस्व बढ़ाने की कोशिशों में जुटे चीन के वैज्ञानिकों ने यह कहकर सबको चौंका दिया कि वे अपना चांद भी बनाएंगे। यह चांद सिर्फ खूबसूरती बढ़ाने के लिए नहीं होगा। इसका वैज्ञानिक ढंग से इस्तेमाल किया जाएगा। इसकी रोशनी से चीनी वैज्ञानिक अपने मुल्क की सड़कों और गली-मोहल्लों तक को रोशन करना चाहते हैं।

जानकारी के अनुसार, चेंगदु प्रांत के अंतरिक्ष वैज्ञाानिक अगले दो वर्षों में इलुमिनेशन सैटेलाइट भेजने की तैयारी में जुटे हैं। इस सैटेलाइट को चेंगदु के एयरो स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी माइक्रोइलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टम रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक तैयार कर रहे हैं। इसे अंतरिक्ष में भेजने के कई फायदे होंगे।

होगी बिजली की बचत
विभिन्न रिपोर्टों में बताया गया है कि यह यंत्र कृत्रिम चांद की तरह काम करेगा। इससे चीन का काफी बड़ा इलाका रोशनी से जगमगाएगा। यह करीब 80 किमी तक के इलाके को रोशनी देगा। इस चांद के निर्माण का असल मकसद खुद को भविष्य के लिए ऊर्जा जरूरतों के अनुसार तैयार करना है। एक बार अंतरिक्ष में भेजने के बाद यह बिजली का निर्माण शुरू कर देगा। इससे चीन के बड़े इलाके में बिजली की बचत होगी।

स्ट्रीट लाइट की छुट्टी!
इसकी रोशनी इतनी तेज होगी कि रात को सड़कों और दूसरी जगहों से अंधेरा दूर हो जाएगा। चीन के वैज्ञानिकों का कहना है कि यह असली चांद से करीब आठ गुना ज्यादा रोशनी देगा। इससे चीन बिजली बनाने पर होने वाले खर्च में कटौती कर सकेगा। कृत्रिम चांद की रोशनी सुचारु ढंग से आने के बाद संबंधित इलाकों में स्ट्रीट लाइट लगाने की जरूरत नहीं होगी।

अपराधियों पर भी सख्त नजर
अंतरिक्ष में इस लंबी छलांग के जरिए चीन दुनिया को यह संदेश भी देना चाहता है कि उसका दबदबा बढ़ रहा है और जो दूसरी महाशक्तियां नहीं कर पाईं, उसे वह मुमकिन कर दिखा सकता है। इसके अलावा यह भी चर्चा है कि कृत्रिम चांद का इस्तेमाल अपराधों की रोकथाम और जासूसी जैसे कार्यों के लिए किया जा सकता है। हालांकि दुनिया में दूसरे वैज्ञानिकों ने इस प्रयोग पर सवाल उठाए हैं। स्वास्थ्य पर इसकी रोशनी के प्रभावों की ओर ध्यान आकर्षित किया है।

ये भी पढ़िए:
– पाकिस्तानी नेता ने सवालों की बौछार का दिया ऐसा जवाब, सुनकर आएगी हंसी!
– मोबाइल फोन के लिए किया था आॅनलाइन आॅर्डर, पैकेट खोला तो मिला ईंट का टुकड़ा!
– बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना की घोषणा, मां दुर्गा के मंदिर को देंगी 50 करोड़ की जमीन
– कंपनी ने किया वाटरप्रूफ फोन का दावा, जांच के लिए जज ने पानी में डाला, जानिए फिर क्या हुआ

LEAVE A REPLY